रेलवे स्टेशन में बम मिलने की सूचना में से प्रशासन में मचा हड़कंप,किया मॉक ड्रिल
रेलवे स्टेशन में बम मिलने की सूचना में से प्रशासन में मचा हड़कंप,किया मॉक ड्रिल
उत्तर-प्रदेश

रेलवे स्टेशन में बम मिलने की सूचना में से प्रशासन में मचा हड़कंप,किया मॉक ड्रिल

news

बांदा, 17 अक्टूबर (हि.स.) बांदा रेलवे स्टेशन में आज अचानक बम मिलने की सूचना पर हड़कंप मच गया।स्थानीय पुलिस, जीआरपी और बम डिस्पोजल टीम व डाँग स्क्वायड, प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मौके पर पहुंचे। आनन-फानन में जांच पड़ताल शुरू की गई। बाद में पता चला कि रेलवे द्वारा मॉक ड्रिल किया गया है, जिससे प्रशासन ने जिससे प्रशासन ने राहत की सांस ली। रेलवे स्टेशन बांदा पर जीआर.पी की (स्टैण्डर्ड आपरेटिंग प्रोसीजर) के अनुरूप आगामी त्योहारों के दृष्टिगत यात्रियों के सुरक्षार्थ आपात स्थियों से कुशलता पूर्वक निपटने के लिए जीआरपी द्वारा आरपीएफ, रेलवे, जनपदीय पुलिस, अभिसूचना इकाई एवं प्रशासन के संयुक्त समन्वय से मॉक ड्रिल (दंगा नियंत्रण अभ्यास) किया गया। सर्वप्रथम मॉक ड्रिल से पूर्व अलग-अलग पार्टियां, जिनमें कण्ट्रोल रूम, प्रथम उत्तरदायी टीम, घटनास्थल कार्डन, इवैक्वेशन टीम, सर्कुलेटिंग एरिया कार्डन, मेडीकल टीम,फायर ब्रिगेड,ए.एस. चैक टीम, बम डिस्पोजल टीम, डॉग स्क्वायड इत्यादि टीमें बनायी गयी। उन सभी टीमों को विधिवत ब्रीफ किया गया। सभी टीमों की कार्य कुशलता को परखने के लिए परिस्थितियां उत्पन्न की गयी, जिसमें एक कॉल आया कि रेलवे स्टेशन के सर्कुलेटिंग एरिया में संदिग्ध वस्तु है, जिसमें बम हो सकता है। सूचना तत्काल एसएचओ बांदा को दी गयी। उनके द्वारा जनपदीय बीडीडीएस एवं ऐंटी सेबोटाज टीम व वरिष्ट अधिकारियों को सूचना से अवगत कराते हुए बैग रखे स्थान के पास पहुचे। वहां पहुचकर कार्डन बनाया गया एवं प्लेटफार्म पर उपस्थित यात्रियों को सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया। एक टीम जो स्टेशन परिसर में प्रवेश करने वाले यात्रियों को रोकने के लिये बनायी गयी थी, वह आने वाले यात्रियों को स्टेशन में प्रवेश करने वालों को रोकते हुए कुछ ही समय में बीडीडीएस, डॉग एवं ऐंटी सेबोटाज टीमें मौके पर पहुच जाती हैं। निर्धारित एसओपी का अक्षरशः पालन करते हुए बैग को बीडीडीएस टीम द्वारा चेक किया गया। बैग को चेक कर बीडीडीएस टीम ने देशी बम होने के जांच न करके पुष्टी की गयी। देशी बम को मौके पर उपलब्ध फायर टेण्डर से पानी की तेज बौछार कराकर निष्क्रिय किया गया तथा मौके पर एम्बुलेन्स भी आ गयी थी। इस मॉक ड्रिल के दौरान उनकी व्यवसायिक दक्षता को परखा गया। सभी अधिकारीॅध्कर्मचारियों को ऐसी परिस्थितियों में संयम बरतते हुए कुशलता पूर्वक कार्य करने हेतु प्रेरित किया गया। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल/मोहित-hindusthansamachar.in