रेलवे : कोरोना बचाव को क्यूआर कोड की व्यवस्था होगी लागू
रेलवे : कोरोना बचाव को क्यूआर कोड की व्यवस्था होगी लागू
उत्तर-प्रदेश

रेलवे : कोरोना बचाव को क्यूआर कोड की व्यवस्था होगी लागू

news

कानपुर, 23 जुलाई (हि. स.)। देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए रेलवे प्रशासन हर तरह से कोरोना बचाव के तरीके अपना रहा है। यात्री और कर्मचारियों को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए रेलवे बोर्ड ने क्यूआर कोड से टिकट जांच व्यवस्था सभी जोन में लागू करने का आदेश दिया है। प्रयागराज जंक्शन की तरह अब देश के सभी स्टेशनों पर क्यूआर कोड से टिकटों की जांच होगी। उत्तर मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी अजीत कुमार सिंह ने बताया कि प्रयागराज जंक्शन पर इस प्रणाली को पहली बार प्रयोग के तौर पर इस व्यवस्था लागू किया था। जो कि कोरोना से बचाव में कारगर साबित होने पर इस व्यवस्था को रेलवे बोर्ड ने सभी जोन में लागू करने का निर्णय लिया है। इसके लिए सेंटर फॉर रेलवे इंफॉर्मेशन सिस्टम (सीआरआईएस) ने सभी क्षेत्रीय मुख्यालयों को यूआरएल कोड का सॉफ्टवेयर भेजा गया है। अब देश के किसी भी कोने की यात्रा के लिए रिजर्वेशन टिकट खरीदते ही। अब यात्री के मोबाइल पर क्यूआर कोड के यूआरएल वाला एसएमएस आएगा,जिससे यात्री को स्टेशन पर प्रवेश करने या कोच में जांच के दौरान क्यूआर कोड वाले यूआरएल को खोलना होगा। जिसे यात्री के द्वारा खोलते ही यात्रा टिकट का सम्पूर्ण विवरण मोबाइल स्क्रीन पर दिखने लगेगा। यही विवरण टिकट की जांच करने वाला हैंड हेल्ड टर्मिनल से स्कैन कर लेगा। अब एयरपोर्ट की तरह देश के सभी स्टेशनों पर यात्रियों के लिए बोर्डिंग पास प्रणाली को लागू कराने की कवायद की जा रही है। प्रयागराज जंक्शन पर पहली बार यात्रियों का स्टेशन पर प्रवेश बोर्डिंग पास के जरिए हो रहा है। उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रंबधक राजीव चौधरी ने इसे बाकी जोन में लागू करने का प्रस्ताव बोर्ड के समक्ष रखा है। क्यूआर कोड स्कैनिंग के लिए यात्रा कर रहे यात्री एप्लिकेशन को गूगल प्ले स्टोर या आईओएस ऐप स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं स्टोर में उपलब्ध कोई भी क्यूआर कोड स्कैनिंग एप्लिकेशन जैसे क्यूआ एंड बारकोड स्कैनर, क्यूआर कोड रीडर का उपयोग भी किया जा सकता है। हिन्दुस्थान समाचार/हिमांशु-hindusthansamachar.in