रानी लक्ष्मीबाई की मूर्ति की दुर्दशा पर सपाइयों ने धरना देकर जताया विरोध
रानी लक्ष्मीबाई की मूर्ति की दुर्दशा पर सपाइयों ने धरना देकर जताया विरोध
उत्तर-प्रदेश

रानी लक्ष्मीबाई की मूर्ति की दुर्दशा पर सपाइयों ने धरना देकर जताया विरोध

news

कानपुर, 21 नवम्बर (हि.स.)। बिठूर स्थित रानी लक्ष्मीबाई की मूर्ति की दुर्दशा पर समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के ट्वीट करने और भाजपा पर निशाना साधने के बाद बिठूर में ग्रामीण छात्र सभा समाजवादी पार्टी के नेता कार्यकर्ता हरकत में आ गए। शनिवार को रानी लक्ष्मीबाई घाट पर सपाइयों ने एकदिवसीय सांकेतिक धरना दिया और नायब तहसीलदार चंद्रप्रकाश पाण्डेय को ज्ञापन सौंपा। नमामि गंगे की ओर से मूर्ति निर्माण में धांधली का आरोप लगा नारेबाजी की। साथ ही कार्यकर्ताओं ने कानपुर में गंगा घाटों के सुंदरीकरण के कामों की उच्च स्तरीय जांच कराने की जांच कराने की मांग की इसके साथ ही योगी सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। पूर्व विधायक मुनींद्र शुक्ल ने कहा जिन्होंने देश की आजादी के इतिहास में अहम भूमिका अदा की, जिनका नाम स्वर्ण अक्षरों में दर्ज है। ऐसे क्रांतिकारियों की मूर्ति तोड़ी गई है यह एक साजिश है, उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज हो। खंडित प्रतिमा की मरम्मत कराने के बजाय नई प्रतिमा की स्थापित की जाए, क्योंकि खंडित प्रतिमा नहीं स्थापित हो सकती है, नई प्रतिमा स्थापित की जाए। समाजवादी पार्टी की मांग पूरी नहीं हुई तो बड़ी लड़ाई लड़ी जाएगी। इस मौके पर छात्र सभा के पूर्व जिलाध्यक्ष सर्वेश यादव, हरिओम पांडेय, राहुल सिंह स्वर्णिम, संजय यादव, पूर्व पार्षद राधे यादव, दुल्लर शुक्ला आदि लोग मौजूद रहें। हिन्दुस्थान समाचार/अजय/मोहित-hindusthansamachar.in