रक्षाबंधन के पवित्र पर्व भी कोेरोना संक्रमण का दुष्प्रभाव पड़ने की आशंका
रक्षाबंधन के पवित्र पर्व भी कोेरोना संक्रमण का दुष्प्रभाव पड़ने की आशंका
उत्तर-प्रदेश

रक्षाबंधन के पवित्र पर्व भी कोेरोना संक्रमण का दुष्प्रभाव पड़ने की आशंका

news

- डाक सेवा और कोरियर सेवा से राखी भेज रही अधिकतर महिलाएं -कोरोना संक्रमण के कारण भाइयों के घर जाने से बच रहीं विवाहिता महिलाएं हापुड़, 27 जुलाई (हि.स.)। भाई-बहन के पवित्र पर्व रक्षाबंधन पर भी कोरोना संक्रमण का दुष्प्रभाव पड़ने की आशंका है। कोरोना संक्रमण के भय से इस वर्ष महिलाएं अपने भाइयों को राखी बांधने के लिए उनके घर जाने के बजाय डाक अथवा कोरियर के माध्यम से राखी भेज रही हैं। कोरोना संक्रमण के कारण प्रशासन भी लोगों से त्योहारों पर भी अपने घरों से कम से कम निकलने की अपील कर रहा है। सामाजिक मान्यता के अनुसार रक्षाबंधन भाई और बहन के बीच प्रेम और स्नेह का पवित्र पर्व है। इस अवसर पर प्रत्येक बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांध कर उससे अपनी सुरक्षा करने का आग्रह करती है। भाई भी अपनी बहनों को उनकी हर संभव सुरक्षा करने का वचन देता है। इस पर्व पर विवाहिता महिलाएं प्रति वर्ष अपने भाइयों को राखी बांधने उनके घर जाती हैं। इस वर्ष कोरोना संक्रमण के कारण महिलाएं अपने भाइयों के घर जाकर उन्हें राखी बांधने के बजाय डाक अथवा कोरियर द्वारा राखी भेज रही हैं। प्रदेश में वर्तमान काल में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इस कारण अपने घरों से बाहर दूसरे नगरों में रहने वाले लोग परिवार में होने वाले कार्यक्रमों में भी जाने से बच रहे हैं। प्रशासन भी लगातार लोगों को अनावश्यक रूप से घर से बाहर निकलने से बचने की सलाह दे रहा है। लोगों से आपस में दूरी बनाए रखने और घर से बाहर निकलते समय मास्क का प्रयोग करने के लिए लगातार अपील कर रहा है। उल्लेखनीय है कि रक्षाबंधन पर्व पर अधिकतर महिलाएं रोडवेज बसों से यात्रा करती हैं। सभी लोगों के पास निजी वाहन नहीं होना और प्रदेश सरकार द्वारा इस पर्व पर निःशुल्क यात्रा करने की सुविधा दिए जाने के कारण रक्षाबंधन पर्व से एक दिन पूर्व ही रोडवेज बसों में बेतहाशा भीड़ हो जाती है। इस दिन राज्य सड़क परिवहन निगम द्वारा अतिरिक्त बसें विभिन्न मार्गों पर उतारने के बावजूद बसों की संख्या कम पड़ जाती है। भीड़ के कारण कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने का खतरा है। अधिक भीड़ के कारण आपस में दूरी बनाए रखने के नियम का पालन हो पाना संभव नहीं है। इस कारण प्रशासन लोगों से रक्षाबंधन पर्व अपने घरों में रह कर ही मनाने की अपील कर रहा है। कोरोना संक्रमण के भय और प्रशासन की संभावित सख्ती को दृष्टिगत रखते हुए महिलाएं अपने भाइयों को राखी भेजने के लिए डाक सेवा और कोरियर सेवा की मदद ले रही हैं। इसके अलावा नई पीढ़ी की कुछ महिलाएं ई-राखी का भी प्रयोग कर रही हैं। हालांकि इस सेवा का प्रचलन अभी काफी कम है।-hindusthansamachar.in