योगी सरकार की जीरो टॉलरेंस और हीरो परफारमेंस का कमाल : विधायक देवमणि
योगी सरकार की जीरो टॉलरेंस और हीरो परफारमेंस का कमाल : विधायक देवमणि
उत्तर-प्रदेश

योगी सरकार की जीरो टॉलरेंस और हीरो परफारमेंस का कमाल : विधायक देवमणि

news

जिलाधिकारी सी.इंदुमती भेजी गई प्रतीक्षा सूची में, कर्मचारियों की बढ़ी धड़कनें सुलतानपुर, 12 सितम्बर (हि.स.)। जिले में कोरोना किट गड़बड़ी के मामले में जिला पंचायतराज अधिकारी के निलंबन के बाद आखिरकार जिलाधिकारी सी. इंदुमती को भी हटना पड़ा है। आखिर सरकार ने इन्हें प्रतीक्षा सूची में डाल ही दिया। इससे जिले की लंभुआ सीट से विधायक देवमणि दुबे का आरोप सही साबित होता दिख रहा है। जिलाधिकारी को हटाए जाने के बाद इस मामले से जुड़े अन्य लोगों की धड़कनें बढ़ गई है। जिले के लंभुआ विधानसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के विधायक देवमणि द्विवेदी ने 27 अगस्त को मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कोरोना महामारी से निपटने के लिए खरीदारी में व्यापक गड़बड़ी की शिकायत की थी। जिस पर प्रमुख सचिव ने अपर मुख्य सचिव पंचायतीराज को जांच सौंपी दी थी। इसके बाद इस मामले में जिला पंचायतराज अधिकारी को निलंबित कर दिया गया था। शासन की कार्रवाई पर देवमणि द्विवेदी ने दोबारा मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर गड़बड़ी के संपूर्ण जिम्मेदारी जिलाधिकारी सी इंदुमती पर डालते हुए इन्हें तत्काल हटाए जाने की मांग की थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए शासन ने पूरे प्रकरण की जांच एसआईटी को सौंप दी थी। माना जा रहा है कि एसआईटी की जांच में प्रथम दृष्टया भ्रष्टाचार का मामला सही पाए जाने पर सी. इंदुमती को हटाया गया है। यही कारण है कि इन्हें प्रतीक्षा सूची में डाल दिया गया है। सुल्तानपुर के नए जिलाधिकारी रवीश गुप्ता को बनाया गया है। चर्चा है कि रवीश गुप्ता अपनी कार्यशैली के लिए जाने जाते हैं। अब कोरोना की गड़बड़ी में शामिल अन्य संलग्न लोगों की धड़कनें बढ़ गई हैं। इधर जिलाधिकारी को हटाए जाने के बाद भ्रष्टाचार के मामले में भाजपा विधायक देवमणि द्विवेदी का पलड़ा भारी माना जाने लगा है। उन्हें लोग इसके लिए बधाइयां दे रहे हैं। विधायक देवमणि द्विवेदी ने इस मामले में जिलाधिकारी के हटाए जाने पर दूरभाष पर अपनी कविता के लहजे में कहाकि योगी सरकार की जीरो टॉलरेंस और हीरो परफारमेंस का यह कमाल है, जनता जनार्दन का आशीर्वाद है, पत्रकारों की कलम का प्रताप है। मेरे लिए तो बोलना बला हैं चुप रहना कला है। इसीलिए तो चुप हूँ कि कला का तो विकास हों। बताया जाता है कि भदैया, लंभुआ, कुड़वार बल्दीराय में घोटाले के सर्वाधिक मामले सामने आ सकते हैं। डीएम के हटने के बाद अधिकारी चुप्पी साधे बैठे हैं। वहीं इस लड़ाई में विधायक श्री द्विवेदी यह साबित कर दिया कि वह भाजपा सरकार की भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति को लेकर लंबी लड़ाई लड़ने को तैयार हैं। हालांकि शुरुआत में उन्हें पार्टी और जनप्रतिनिधियों का समर्थन नहीं मिला, लेकिन अब उन्हें इस मुद्दे पर पार्टी के बाहर और भीतर से भी समर्थन मिलने लगा है। हिन्दुस्थान समाचार/दयाशंकर/राजेश-hindusthansamachar.in