यमुना नदी में सुजावन देव मंदिर को थपेड़ों से गिरने व बचाने की अपील
यमुना नदी में सुजावन देव मंदिर को थपेड़ों से गिरने व बचाने की अपील
उत्तर-प्रदेश

यमुना नदी में सुजावन देव मंदिर को थपेड़ों से गिरने व बचाने की अपील

news

ऐतिहासिक व पौराणिक मान्यताओं से जुड़ी भारतीय संस्कृति की पहचान सुजावन देव मंदिर : दिनेश तिवारी प्रयागराज, 07 सितम्बर (हि.स.)। ऐतिहासिक व पौराणिक मान्यताओं से जुड़ी भारतीय संस्कृति की पहचान सुजावन देव मंदिर भीटा को यमुना नदी के थपेड़ों से गिरने व बचाने के लिए भाजपा के पूर्व जिला मीडिया प्रभारी दिनेश तिवारी ने मुख्यमंत्री, प्रयागराज के प्रबुद्धजनों एवं संत महात्माओं से अपील की है। उनका कहना है कि सुजावन देव भीटा के मैदान में प्रतिवर्ष यम द्वितीया को विशाल मेला विधानसभा बारा की एक पहचान है। किंवदंतियों जनश्रुतियों के आधार पर बहुत सी मान्यताएं यहां से जुड़ी हैं। एक मान्यता यह भी है कि द्वापर में अज्ञातवास काल के दौरान युधिष्ठिर भाइयों सहित इसी मंदिर में कुछ दिन प्रवास किए थे। लोग कहते हैं कि दुःख, दरिद्रता निवारणार्थ यमुना स्नान कर सुजावनदेव का दर्शन पूजन अतीव फलदायी है। उनका कहना है कि हिन्दुओं की आस्था सुजावन देव मंदिर है। उत्तर प्रदेश के यमुना नदी में स्थित एकमात्र मंदिर है जहां कई हिंदी और भोजपुरी फिल्मों की शूटिंग हो चुकी है। श्री तिवारी ने बताया कि बौद्धकालीन कुछ पुराणशेष भी भीटा में है। धार्मिक महत्व के स्थल एवं मंदिर बचाने के लिए स्थानीय नागरिकों ने कई बार अभियान चलाया। मगर, आज तक मंदिर का जीर्णोद्धार नहीं हो सका। अलबत्ता कुंभ मेले के दौरान लोक निर्माण विभाग द्वारा मंदिर तक सम्पर्क मार्ग बनाया गया। जो यमुना नदी के जलस्तर बढ़ने पर डूब कर क्षतिग्रस्त हो चुका है। हाल ही में पर्यटन विभाग के अधिकारियों ने निरीक्षण कर जीर्णोद्धार प्रस्ताव शासन को भेजा है, मगर स्वीकृति की बाट जोह रहा है। विधायक बारा डॉ. अजय कुमार, सांसद प्रयागराज डॉ. रीता बहुगुणा जोशी, जिलाधिकारी प्रयागराज, कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर सुजावन देव मंदिर के जीर्णोद्धार कराकर संरक्षित कराने की आवाज उठाई है। हिन्दुस्थान समाचार/विद्या कान्त/संजय-hindusthansamachar.in