मेरठ में लव जिहाद के कई मामले आए सामने,  हत्याकांड का आरोपी गिरफ्तार
मेरठ में लव जिहाद के कई मामले आए सामने, हत्याकांड का आरोपी गिरफ्तार
उत्तर-प्रदेश

मेरठ में लव जिहाद के कई मामले आए सामने, हत्याकांड का आरोपी गिरफ्तार

news

-अमित बनकर ‘शमशाद’ ने प्रिया से रचाया प्रेम-प्रसंग -मां और बेटी का कत्ल कर घर में ही दफनाये थे शव लखनऊ, 23 जुलाई (हि.स.)। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ में मां-बेटी की हत्या का आरोपी शमशाद पुलिस मुठभेड़ में गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस के अनुसार इस हत्याकांड का आधार लव जिहाद था। पुलिस ने आज वहां लव जिहाद के कई मामले उजागर किये हैं। लव जिहाद का ताजा प्रकरण मेरठ स्थित परतापुर के गांव भूड़बराल का है। पुलिस के अनुसार शादीशुदा शमशाद ने पहले अमित गुर्जर बनकर गाजियाबाद की महिला प्रिया से फेसबुक पर दोस्ती की, फिर उसे प्रेमजाल में फंसाया। शादी का झांसा देकर पिछले पांच सालों से जबरन साथ रखा। महिला के साथ उसकी 10 साल की मासूम बेटी भी रहती थी। महिला को जब शमशाद की असलियत का पता चला और उसने विरोध तेज किया, तो शमशाद ने मां-बेटी की हत्या कर दोनों के शव घर में ही दफना दिए। महिला की सहेली ने पुलिस को गुमशुदगी की सूचना दी। पुलिस की जांच आगे बढ़ी, तो लव जिहाद का सनसनीखेज मामला सामने आया। पुलिस ने मकान से दो नर कंकाल बरामद किए। बाद में शमशाद को मुठभेड़ में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार लगभग छह वर्ष पहले तलाकशुदा प्रिया गाजियाबाद में चार वर्षीय पुत्री कशिश के साथ जीवन यापन कर रही थी। तभी उसकी मुलाकात शमशाद से हुई। उसने अपना परिचय अमित गुर्जर बताकर प्रिया से दोस्ती की और उसके बाद शादी। जब प्रिया को लव जिहाद की हकीकत पता चली, तो उसने विरोध किया। प्रिया और उसकी पुत्री को जान से मारने की धमकी देकर शमशाद उसे अपने साथ रखे रहा। जबकि इस दौरान उसकी दूसरी पत्नी बिहार में रह रही थी। लगभग तीन महीने पहले मोदीनगर की रहने वाली चंचल ने परतापुर थाने आकर आरोप लगाया था कि उसकी सहेली प्रिया को भूडबराल गांव के रहने वाले शमशाद उर्फ अमित गुर्जर ने अपने प्रेम जाल में फंसा कर पांच साल से अपने यहां रख रखा है। उस पर धर्म परिवर्तन करने और नमाज पढ़ने का दबाव बना रहा है। उसने बताया, बीती 29 मार्च से प्रिया का फोन नहीं मिल रहा था और न उसका कोई अता-पता था। चंचल ने अपनी सहेली और उसकी 10 वर्षीय पुत्री की हत्या का शक जाहिर करते हुए जांच की मांग की थी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय साहनी के निर्देश पर पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए जब शमशाद से सख्त पूछताछ की, तो उसने कबूल किया कि उसने प्रिया और उसकी बेटी का कत्ल करके कमरे में बेड के नीचे दोनों के शव दफना दिए और ऊपर से प्लास्टर कर दिया। पुलिस शमशाद के घर पहुंची और उसकी बताई जगह पर खुदाई की, तो प्रिया और उसकी 10 वर्षीय बेटी कशिश के कंकाल मिले। पुलिस ने कंकाल कब्जे में लेकर फोरेंसिक परीक्षण के लिए भेजा। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया, एक मुठभेड़ में 25,000 रुपये के इनामिया अभियुक्त शमशाद पुलिस की आत्मरक्षार्थ कार्रवाई में घायल हुआ। उसके दोनों पैरों में चार गोलियां लगी, जिसे तत्काल इलाज के लिए चिकित्सालय भेजा गया। जहां उसकी स्थिति गंभीर है। चिकित्सकों के अनुसार पैर काटने की भी स्थिति हो सकती है। बदमाश से बाइक, तमंचा, भारी संख्या में जिंदा खोखा और कारतूस बरामद हुआ है। पहली पत्नी के बयान से पुलिस को हुआ शक संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हुई मां-बेटी की तलाश में पुलिस को शमशाद की पहली पत्नी आयशा उर्फ सोनी ने बताया कि वह पांच साल से अपने घर बिहार में रहती है और उसका पति अपना मकान होने के बावजूद प्रधान के घर रहता है। पुलिस को शक हुआ कि आखिर अपना मकान होने के बावजूद शमशाद किराए पर क्यों रह रहा है जिसके चलते विधि विज्ञान प्रयोगशाला की टीम को भी शमशाद के घर ले जाकर जांच कराई गई, पर वहां कोई सबूत नहीं मिला था। प्रिया ने दर्ज कराया था दुष्कर्म का मुकदमा पुलिस ने छानबीन की तो पता चला कि लव जिहाद में फंसा कर शमशाद ने पहले प्रिया को खरखोदा के लोहिया नगर में किराए पर रखा, जहां उसने प्रिया के साथ दुष्कर्म किया। मुंह खोलने पर जान से मारने की धमकी दी तो प्रिया ने खरखोदा थाने में दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था। शमशाद की दबंगई और बेटी की जान के खतरे को देखते हुए उसने परिस्थितियों से समझौता किया और उसके साथ भूडबराल में आकर रहने लगी। उसने जब भी विरोध किया, तो शमशाद ने उसे और उसकी बेटी को जान से मारने की धमकी देकर चुप करा दिया। ...मेरठ में लव जिहाद के अन्य मामले छात्रा को अमन बनकर प्रेमजाल में फंसाया पुलिस के अनुसार मेरठ के दौराला के लोइया गांव निवासी शाकिब ने लुधियाना की एकता के साथ अमन बनकर प्यार का नाटक किया। उससे घर से 15 लाख की जूलरी लाने को कहा। वह जूलरी लेकर आई, तो उसे शादी का झांसा देकर 13 मई 2019 को शाकिब अपने गांव लोइया ले आया। यहां पर एकता को उसकी हकीकत पता चली, तो उसने साथ रहने से इनकार कर दिया। तभी 15 लाख की जूलरी हाथ से निकलती देख शाकिब ने अपने परिवार के साथ मिलकर बेरहमी से एकता के हाथ, पैर और सिर अलग-अलग करके, खेत-तालाब में दफना और फेंक दिए। लॉकडाउन होने पर शाकिब घर लौटा और एक दिन नशे में दोस्तों को सारी बात बताई, जो पुलिस तक पहुंच गई। इस मामले का खुलासा जून 2020 में हुआ। प्रकरण-दो, ब्लैकमेल करने वाला दिनेश निकला वसीम मेरठ में लव जिहाद के एक अन्य मामले में पुलिस ने दिनेश रावत बने आरोपी वसीम को गिरफ्तार किया। वसीम ने युवती से पहले फेसबुक पर दोस्ती की, फिर दुष्कर्म। मेरठ के मुंडाली थाना क्षेत्र के अजराड़ा निवासी वसीम ने हापुड़ की युवती को पहचान छिपाकर लव जिहाद में फंसाया। जब युवती वसीम के प्रेम में पड़ गई तो उसने उसका अश्लील वीडियो बनाया और वायरल करने के नाम पर ब्लैकमेल करने लगा। दो साल तक वह उसके साथ दुष्कर्म करता रहा। जब युवती को पता चला कि जिससे वह प्रेम करती है असल में वह दिनेश रावत नहीं, वसीम है। हकीकत सामने आने और राज खुलने के डर से वसीम ने युवती को जुबान खोलने पर जान से मारने की धमकी दी। पुलिस ने युवती के पिता की शिकायत पर वसीम को गिरफ्तार किया। वसीम पहले से शादीशुदा है और उसके दो बच्चे भी हैं। प्रकरण-तीन, माथे पर टीका-हाथों पर कलावा बांध बना हिन्दू बीते जून के पहले सप्ताह में मेरठ के लिसाड़ी गेट थाना क्षेत्र निवासी फैसल उर्फ सोनू ने बुलंदशहर की रहने वाली युवती को नाम बदलकर उसे प्रेमजाल में फंसाया। यह युवती अपने माता-पिता की मृत्यु होने के बाद परिवार का खर्चा चलाने के लिए जॉब करती थी। फैसल ने कुछ दिन बाद उससे शादी कर ली। लॉकडाउन की वजह से फैक्ट्री बंद हुई, तो सोनू युवती को लेकर मेरठ आ गया। पहले प्रहलाद नगर और फिर राज खुलने के डर से मोरीपाड़ा में किराए के मकान में रहने लगा। युवती तीन महीने के गर्भ से है। हकीकत सामने आने पर आरोपित, युवती को जान से मारने की धमकी देते हुए फरार हो गया। पीड़ित युवती ने बताया, प्रेमजाल में फंसाने के लिए फैसल माथे पर टीका लगाता था और हाथ में कलावा पहनता था। लेकिन मेरठ आने पर उसने टीका लगाना और कलावा पहनना छोड़ दिया था। हिन्दुस्थान समाचार/पीएन द्विवेदी-hindusthansamachar.in