मुर्री बंद कर लगातार तीसरे दिन बुनकर रहे हड़ताल पर, निकाली मोटरसाइकिल रैली
मुर्री बंद कर लगातार तीसरे दिन बुनकर रहे हड़ताल पर, निकाली मोटरसाइकिल रैली
उत्तर-प्रदेश

मुर्री बंद कर लगातार तीसरे दिन बुनकर रहे हड़ताल पर, निकाली मोटरसाइकिल रैली

news

वाराणसी, 18 अक्टूबर (हि.स.)। फ्लैट रेट से बिजली देने की मांग कर लगातार तीसरे दिन रविवार को भी बुनकर हड़ताल पर रहे। मुर्री (लूम) बंद कर हड़ताल में शामिल बुनकरों ने लोहता से बांहों पर काली पट्टी बांध मोटर साइकिल रैली निकाल आक्रोश जताया। रैली शहर के बुनकर बाहुल क्षेत्र ककरमत्ता, सुंदरपुर, लल्लापुर, बजरडीहा, अशफाक नगर, मदनपुरा, रेवड़ी तालाब, गोदौलिया, सिगरा, मलदहिया से बड़ी बाजार, सरैया पुराने पुल, अंसाराबाद होते हुए पीलीकोठी, आदमपुर से बुनकर नगर कॉलोनी में शाम को पहुंची। वाराणसी वस्त्र बुनकर संघ के जिलाध्यक्ष राकेशकांत राय ने कहा कि बुनकरों ने 20 अक्टूबर को कचहरी शास्त्री घाट पर शान्ति पूर्वक धरना प्रदर्शन देने के लिए जिला प्रशासन से अनुमति मांगी थी। लेकिन प्रशासन ने अनुमति नही दी। इस लिए हमलोगों ने शासन तक अपनी बात पहुंचाने के लिए रैली निकाली। उन्होंने कहा कि सरकार ने 15 दिन का समय लेकर 45 दिन बाद भी कोई निर्णय नहीं दिया। इससे बुनकर बिजली विभाग के कर्जदार हो रहे है। कर्जदार होने का डर और मंदी की मार से जुझ रहे बुनकर बेहाल है। त्यौहारी सीजन में आज बुनकर अपने सीने पर पत्थर रखकर आर-पार की लड़ाई लड़ रहे है। कबीर के समय से बुनकर अधनंगे बदन रहकर समाज का तन ढ़कता रहा है। आज बुनकर दाने-दाने को मोहताज हो गया है। उन्होंने दावा किया कि पूरे प्रदेश में पावरलूम की भंयकर बंदी है। रैली में शैलेश सिंह, ज्वाला सिंह, अकरम अंसारी, असलम भाई मेहताब आलम, संजय प्रधान, श्यामजी, जीशान आलम, रोशन जमील, इरशाद भाई, निजाम खान आदि के अलावा बुनकर बिरादाना तंजीम और स्वयंसेवी संगठनों के लोग भी शामिल रहे। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/दीपक-hindusthansamachar.in