मीरजापुर: जागरूकता अभियान चलाकर कर वसूलेगी नगर पालिका
मीरजापुर: जागरूकता अभियान चलाकर कर वसूलेगी नगर पालिका
उत्तर-प्रदेश

मीरजापुर: जागरूकता अभियान चलाकर कर वसूलेगी नगर पालिका

news

-होटल, हास्पिटल समेत बीस पर 77 लाख से अधिक है बकाया -पिछले वर्ष करोड़ों, इस वर्ष मात्र 35 लाख की वसूली -कर जमा न होने से नगर विकास की योजनाओं पर ब्रेक मीरजापुर, 24 जुलाई (हि.स.)। नगर पालिका परिषद जल्द ही बड़े बकाएदारों को गृह व जल कर जमा करने के लिए प्रेरित करेगा। नगर पालिका की ओर से अभियान चलाकर सरकारी विभागों से भी कर बकाया जमा कराने की योजना है। वर्तमान समय में कोरोना संक्रमण के चलते गृह कर और जल कर काफी कम जमा हो रहा है। इससे नगर विकास की योजनाओं पर ब्रेक लग गया है। इलाज के नाम पर मरीजों से लाखों रुपये वसूलने वाले नगर के नटवां स्थित पापुलर हास्पिटल पर नौ लाख साठ हजार रुपए नगर पालिका का जल व गृह कर बकाया है। वहीं जंगी रोड स्थित जिले का नामी-गिरामी होटल कोणार्क ग्रेंड भी इससे अछूता नहीं है। उसके यहां भी लगभग पांच लाख सोलह हजार रुपए का कर बकाया है। ऐसे बीस लोगों के यहां पालिका का 77 लाख 56 हजार 467 रुपये से अधिक का कर बकाया चल रहा है। इसे वसूलने के लिए पालिका जल्द ही अभियान चलाने वाला है। नगर पालिका परिषद नगरवासियों को सुविधाएं मुहैया कराने में ही नहीं बल्कि कर जमा कराने में भी फिसड्डी साबित होती दिखाई दे रही है। इस वर्ष और पिछले वर्ष के करों की बकाया राशि पर नजर डाले तो नगर की जनता पर करोड़ों रुपए करों का बकाया है लेकिन नपा इन्हें वसूल नहीं कर पा रही है। नगर पालिका की कर वसूली पर नजर डालें तो साफ समझ में आता है कि नगर पालिका कर वसूली को लेकर कितनी संजिदा है। हालांकि कोरोना संक्रमण के चलते उपजे आर्थिक संकट से जूझ रहे लोगों को राहत पहुंचाने के उद्देश्य से शासन ने वसूली पर रोक लगा दी है। वहीं सक्षम लोगों से कर जमा करने की अपील भी की है। पिछले कई वर्षों से कर न जमा करने वाले बड़े बकाएदारों से नगर पालिका ने कर जमा करने की अपील की है। पालिका के खजाने को भरने के लिए जागरूकता अभियान को हथियार बनाया जा रहा है। कर निर्धारण अधिकारी के मुताबिक पिछले वर्ष 3.68 करोड़ शासन से वसूली का लक्ष्य निर्धारित था। इसमें 90 प्रतिशत कर वसूला गया था। वहीं इस वर्ष मात्र 35 लाख रुपया ही कर जमा हो पाया है। बताया कि गृह कर व जल कर का नगर की जनता पर करोड़ों रुपये बकाया है। इनमें बीस ऐसे बकाएदार हैं, जिन पर 77 लाख 56 हजार 467 रुपये का कर बकाया है। इन बड़े बकाएदारों में एक होटल और हास्पिटल भी शामिल है। ये लोग कई सालों से कर का भुगतान नहीं कर रहे हैं। इसके कारण नगर पालिका की ओर से कराए जाने वाले विकास कार्य रूके पड़े हैं। नगर पालिका परिषद के कर निर्धारण अधिकारी अरविंद कुमार ने बताया कि कोरोना काल में शासन से कर वसूली स्थगित है। ऐसे में सक्षम लोग बकाया जमा कर सकते हैं। इससे उनका ही भार कम होगा। इस वर्ष अभी तक मात्र 35 लाख कर वसूली की जा सकी है। अब कर जमा कराने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/गिरजा शंकर/दीपक-hindusthansamachar.in