बोले मुख्य सचिव,यूपी में अपराध पहले की अपेक्षा कम हुए
बोले मुख्य सचिव,यूपी में अपराध पहले की अपेक्षा कम हुए
उत्तर-प्रदेश

बोले मुख्य सचिव,यूपी में अपराध पहले की अपेक्षा कम हुए

news

झांसी, 17 अक्टूबर (हि.स.)। यूपी में दम है क्योंकि यहां अपराध कम है। अमिताभ बच्चन की यह पंक्तियां आपको याद ही होंगी। हालांकि इसके इतर इस समय यूपी में अपराध अचानक बढ़ गया है। यूपी में महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों को किए गए सवाल के जवाब में उत्तर प्रदेश के प्रशासन के मुखिया राजेन्द्र तिवारी ने यूपी में अपराध कम बताते नजर आए। झांसी के दीनदयाल सभागार में उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव राजेंद्र तिवारी ने एक सवाल के जवाब में कहा है उत्तर प्रदेश में पहले की अपेक्षा अपराध कम हुआ। वह यहां दीनदयाल सभागार में आयोजित मिशन शक्ति-नारी सुरक्षा नारी सम्मान कार्यक्रम का शुभारंभ करने आए थे। पत्रकारों ने उनसे सवाल करते हुए पूछा था कि पिछले कुछ दिनों से महिलाओं के प्रति अपराधों में अचानक बाढ़ सी क्यों आ गई है ? उत्तर प्रदेश में अचानक अपराध क्यों बढ़ गया। फिरोजाबाद में भाजपा नेता की आज हत्या हो गई। आज ही झांसी में एक महिला ने सिरफिरे आशिक को मार डाला ? जवाब में उन्होंने कहा कि यूपी में अपराध बहुत कम हो गया। वह प्रदेश में महिलाओं के प्रति अपराध को शून्य पर लाना चाहते हैं। इसके लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार प्रयासरत हैं। मुख्य सचिव कार्यक्रम की समाप्ति पर वह सिटी कोतवाली थाने भी गए। वहां उन्होंने महिला फरियादी को न्याय दिलाने के लिए पुलिस को निर्देशित किया। झांसी में भी पिछले हफ्ते से लगातार महिलाओं पर योन हिंसा के मामले एकदम बढ़ गए हैं। अपराध नियंत्रण पर पुलिस के दावे हवा हवाई साबित हो रहे हैं। प्रदेश के मशीनरी के मुखिया का यह बयान अपने आप में बहुत चैकाने वाला था। दुराचारी या तो गोली का निशाना बनेगा या फिर जेल में होगा मुख्य सचिव ने बदमाशों के खिलाफ आग उगल दी। हमेशा शांत रहने वाले चीफ सेक्रेटरी राजेंद्र तिवारी ने मुख्यमंत्री का पुराना डायलॉग दोहरा दिया। मंच से स्पीच देते हुए मुख्य सचिव राजेंद्र तिवारी ने कहा हमारे लोकप्रिय मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में सरकार संकल्पित है। किसी भी दुराचारी को प्रदेश में रहने नहीं देंगे या तो उसकी जगह जेल में होगी या वह पुलिस की गोली से वह मारा जाएगा। किसी दुराचारी को प्रदेश में जगह नहीं है। कानून का सहारा लेना ही होगा। मुख्य सचिव का धार्मिक रुप अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि द्रोपदी का चीर हरण नहीं होता तो महाभारत नहीं होता। क्या हम नारियों पर अत्याचार कर स्वयं का विनाश चाहते हैं ? क्या हम कलयुग में विनाश की प्रतीक्षा कर रहे हैं ? माता सीता का हरण हुआ तभी दुराचारी रावण का वध हुआ था ? इसलिए हमें मातृ शक्ति का सम्मान करना होगा। आज वह बहुत ही धार्मिक रूप में दिख रहे थे। हिन्दुस्थान समाचार/महेश/मोहित-hindusthansamachar.in