बेटे की विकलांगता के चलते हेड कान्सटेबल के तबादले पर रोक
बेटे की विकलांगता के चलते हेड कान्सटेबल के तबादले पर रोक
उत्तर-प्रदेश

बेटे की विकलांगता के चलते हेड कान्सटेबल के तबादले पर रोक

news

प्रयागराज, 23 जुलाई (हि.स.)। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बेटे की विकलांगता 80 प्रतिशत से अधिक होने के आधार पर पिता हेड कान्सटेबल के स्थानांतरण पर रोक लगा दी है। याची हेड कान्सटेबिल का तबादला वाराणसी से गाजीपुर कर दिया गया था। यह आदेश जस्टिस सिद्धार्थ वर्मा ने हेड कान्सटेबल संतोष कुमार सिंह की याचिका पर दिया है। याची को 19 मार्च 20 को गाजीपुर ट्रान्सफर कर दिया गया था। उसे 12 मई 20 को रिलीव होने को कहा गया और उसी दिन प्रदेश सरकार ने कोविड-19 महामारी के चलते तबादलों पर रोक लगा दी थी। ट्रान्सफर को चुनौती देते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता विजय गौतम का कहना था कि याची का बेटा विकलांग है। कहा गया था कि शासनादेश के अनुसार यदि लड़का या आश्रित विकलांगता से प्रभावित है तो उसे सामान्य स्थानान्तरण से मुक्त रखा जाय। अधिवक्ता का कहना था कि ऐसी स्थिति में केवल गंभीर शिकायतों अथवा अपरिहार्य कारणों से ही तबादला हो सकता है। याची की पत्नी भी वाराणसी में ही सरकारी नौकरी में हैं। ट्रान्सफर पर रोक लगाते हुए कोर्ट ने सरकारी वकील से तीन सप्ताह में जवाब मांगा है कि वह बताए कि जब याची का बेटा विकलांग है और पत्नी सरकारी नौकरी में हैं तो कैसे उसका तबादला किया गया। कोर्ट ने इस याचिका पर सुनवाई 5 सप्ताह बाद करने का निर्देश दिया है। इस बीच कोर्ट ने कहा है कि याची जहां तैनात है वहीं काम करता रहेगा। हिन्दुस्थान समाचार/आर.एन/दीपक-hindusthansamachar.in