बेटियां ससुराल को अपना घर समझें तो वो घर-घर नहीं मन्दिर होगा - राज्यमंत्री
बेटियां ससुराल को अपना घर समझें तो वो घर-घर नहीं मन्दिर होगा - राज्यमंत्री
उत्तर-प्रदेश

बेटियां ससुराल को अपना घर समझें तो वो घर-घर नहीं मन्दिर होगा - राज्यमंत्री

news

- ‘मिशन शक्ति’ अभियान का शुभारम्भ बांदा, 17 अक्टूबर (हि.स.)।महिलाओं एवं बेटियां को ससुराल को अपना घर समझना चाहिए और अपने सास-ससुर के साथ माता-पिता जैसा आचरण करना चाहिए। यदि इस तरह की सोंच महिलाओं में विकसित होगी तो वो घर, घर नही होगा मन्दिर होगा। यह आग्रह आज कलेक्टेªट सभाकक्ष में उ.प्र. शासन द्वारा संचालित ‘‘मिशन शक्ति’’ अभियान नारी सुरक्षा, नारी सम्मान, नारी स्वावलम्बन का शुभारम्भ करते हुए राज्यमंत्री कृषि, कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान उ.प्र./जनपद के प्र्रभारी मंत्री लाखन सिंह राजपूत ने किया। मंत्री जी ने सभा में उपस्थित महिलाओं एवं बेटियों व अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि मिशन शक्ति अभियान की जागरूकता जब तक अपने आप में नही होगी तब तक उसे पूरी तरह से सफल नही बनाया जा सकता। प्रत्येक व्यक्ति को अपने प्रति जागरूक होना चाहिए। इस सम्बन्ध में भारत सरकार एवं उ.प्र. सरकार ने इस अभियान में नारी सुरक्षा हेतु उपाय किये गए हैं। हमारी भारतीय संस्कृति सभ्यता के अन्दर यह बताया गया है कि महिलाओं का सम्मान बडे आदर पूर्वक करना चाहिए क्योंकि जहां महिला खुश होती वहां लक्ष्मी का निवास होता है और जो भी कानूनी व्यवस्था की गयी है इसको और प्रभावी रूप से बनाये जाने का कार्य किया जाए। उन्होंने जिलाधिकारी से अपेक्षा करते हुए कहा कि जनपद में भ्रूण हत्या नही होनी चाहिए। इस तरह के जितने भी अल्ट्रासाउण्ड एवं चेकअप सेन्टर हैं उनका निरीक्षण कर यदि ऐसी अप्रिय घटना घट रही हैं तो उसे तत्काल प्र्रभाव से सीज कर दिया जाए और कानूनी कार्यवाही की जाए क्योंकि यह कानूनी अपराध के दायरे में आता है। पास्को एक्ट जो ट्रायल चल रहे हैं इसकी भी स्पीडी इनवेस्टीकेशन करके उनके खिलाफ कार्यवाही की जाए जिससे अपराध करने वाले परास्त हो जायें। उन्होंने कहा कि बेटियां देश का संचालन करती हैं इसीलिए यहां उपस्थित समस्त महिलाओं एवं बेटियों से आग्र्रह करते हैं कि अपने परिवार में सामंजस्य बनाकर कार्य करें जिससे मेन्टीनेन्स लेने जैसी नौमत कभी न आने पाये। मिशन शक्ति अभियान की नोडल अधिकारी डी.आई.जी. पुष्पान्जली ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि आप सभी जानते हैं कि इस दुनिया की आधी आबादी महिलाओं के कारण हैं और लोग चाहते हैं कि लड़की पैदा न हो लेकिन ऐसा नही है लडकों के बराबर बल्कि और आगे बढकर लडकियां कार्य करती हैं मण्डलायुक्त गौरव दयाल ने इस कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि किसी समाज देश का आकलन करना हो तो सर्वप्रथम महिलाओं को सम्मान दिया जाना चाहिए और जब तक नारी का सम्मान, सुरक्षा एवं स्वावलम्बन पर फोकस नही करेंगे तब तक विकास सम्भव नहीं है। महिला आयोग सदस्य श्रीमती प्रभा गुप्ता ने कहा कि जो भी शासन की योजनायें चल रही हैं वे जमीनी स्तर पर चलें और महिलाओं को सुरक्षा का एहसास होना चाहिए। अपर पुलिस अधीक्षक ने जनपद में किये गए उत्कृष्ट कार्यों को पी.पी.टी. के माध्यम से बताया। मंत्री जी एवं जिलाधिकारी ने सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग उ.प्र. से आयी हुई मिशन शक्ति जन जागरूकता हेतु एल.ई.डी. वैन को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। कार्यक्रम में उपस्थित जिलाध्यक्ष भाजपा रामकेश निषाद, उप महा निरीक्षक पुलिस, पुलिस अधीक्षक बांदा सिद्धार्थ शंकर मीणा, अपर जिलाधिकारी संतोष बहाुदर सिंह, मुख्य विकास अधिकारी हरिश्चन्द्र वर्मा, नगर मजिस्ट्रेट सुरेन्द्र श्रीवास्तव, डी.सी.एन.आर.एल.एम के.के0पाण्डेय, समस्त उप जिलाधिकारी, कार्यक्रम आयोजक डी.पी.ओ. इशरत जहां, जिला बेसिक शिक्षाधिकारी हरिश्चन्द्र नाथ, जिला पंचायत राज अधिकारी संजय यादव, अपर जिला सूचना अधिकारी कु. शारदा सहित सम्बन्घित विभागों के अधिकारी, महिलायें एवं बच्चियां उपस्थित रहीं। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल-hindusthansamachar.in