बिजली, रेलवे, मेट्रो से लेकर गंगा जल परियोजना तक है नगर निगम के बकायेदार ,120.42 करोड़ का बकाया
बिजली, रेलवे, मेट्रो से लेकर गंगा जल परियोजना तक है नगर निगम के बकायेदार ,120.42 करोड़ का बकाया
उत्तर-प्रदेश

बिजली, रेलवे, मेट्रो से लेकर गंगा जल परियोजना तक है नगर निगम के बकायेदार ,120.42 करोड़ का बकाया

news

- भाजपा पार्षद ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर की वसूली की मांग गाजियाबाद, 10 सितम्बर (हि.स.) । नगर निगम का विभिन्न सरकारी विभागों पर 120 करोड़ 42 लाख रुपये का बकाया है लेकिन नगर निगम उनसे वसूली नहीं कर पा रहा है । इन बकायेदारों में रेलवे, मेट्रो, बिजली निगम व गंगाजल परियोजना शामिल हैं । अकेले बिजली निगम पर ही 80 करोड़ से ज्यादा का बकाया है। भारतीय जनता पार्टी पार्षद दल के नेता राजेंद्र त्यागी ने आज प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर न केवल पूरा विवरण भेजा है बल्कि इसकी वसूली को कराने की मांग की है ताकि नगर निगम की आर्थिक परेशानी दूर हो सके और विकास कार्यों को गति मिल सके। त्यागी ने बताया कि नगर निगम केंद्रीय व प्रदेश सरकार के कार्यालयों से संपत्ति कर व सर्विस चार्ज के रूप में राजस्व वसूलती हैं जिसमें वर्तमान समय में इन विभागों पर 120 करोड़ 42 लाख रुपये का बकाया है । उन्होंने बताया कि नगर निगम का बिजली विभाग पर 60 करोड़ 72 लाख 57लाख रुपये सर्विस चार्ज का और संपत्ति और 15 करोड़ 52 हजार का किराया व अन्य सर्विस का बकाया है । कुल बकाया 80करोड़ 60 लाख से ज्यादा बिजली निगम पर बकाया है जो अभी तक समायोजित नहीं किया गया है जबकि नगर निगम का पैसा वित्त आयोग से मिलने वाले पैसे से काट लिया जाता है ।उत्तर रेलवे पर नगर निगम का कुल चार करोड़ 60 लाख 82 हजार बकाया है । इसी तरह मेट्रो स्टेशनों पर नगर निगम का 30 करोड़ 91लाख का बकाया है और गंगाजल परियोजना चार करोड़ 23 लाख रुपये का बकाया। कुल मिलाकर 120 करोड़ 60 लाख बकाया है समायोजन करने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि यदि निगम को यह धन राशि मिल जाय तो शहर में काफ़ी विकास कार्य हो सकते हैं। हिन्दुस्थान समाचार /फरमान अली/रामानुज ::-hindusthansamachar.in