बलिया : भयावह हुई घाघरा की धारा, जर्जर ठोकर बचाने जो युद्ध स्तर पर शुरू हुआ कार्य
बलिया : भयावह हुई घाघरा की धारा, जर्जर ठोकर बचाने जो युद्ध स्तर पर शुरू हुआ कार्य
उत्तर-प्रदेश

बलिया : भयावह हुई घाघरा की धारा, जर्जर ठोकर बचाने जो युद्ध स्तर पर शुरू हुआ कार्य

news

-डीएम ने इंजीनियरों से कहा, दिन के साथ रात में भी हो लगातार काम (संशोधित) बलिया, 02 अगस्त (हि. स.)। जिले से होकर गुजरने वाली घाघरा नदी का रौद्र रूप दिखने लगा है। रविवार को इब्राहिमाबाद नौबरार में बीएसटी बंधे पर बने स्पर का एक हिस्सा जर्जर होने के बाद जिलाधिकारी एसपी शाही मौके पर पहुंचे। उन्होंने स्पर की स्थिति देखी और वहां तैनात इंजीनियरों का निर्देश दिया कि युद्ध स्पर पर यहां बचाव कार्य किए जाएं। बंधे पर पहुंचते ही डीएम सीधे डेंजर पॉइंट के पास गए। वहां घाघरा (सरयू) नदी की धारा की भयावह स्थिति को देखते हुए बाढ़ विभाग के अभियंताओं से कहा कि यहां काम पूरे दमखम के साथ कराना होगा। ठोकर के जर्जर होने का कारण और बचाव कार्य किस तरह कराए जाएंगे, इसकी जानकारी अधिशासी अभियंता संजय मिश्रा से ली। यह भी निर्देश दिया कि बंधा पर 24 घंटे गश्ती होती रहे। बंधा कहीं से भी जर्जर नहीं होना चाहिए। पानी का दबाव बढ़ने के बाद कुछ नहीं किया जा सकेगा, लिहाजा कहीं छोटी-मोटी दिक्कत है तो उसे पहले ही ठीक करा लिया जाए। एक्सईएन संजय मिश्र ने बताया कि बंधे की सुरक्षा के लिए ठोकर के सबसे नजदीकी प्वाइंट को पैक करने का काम होगा, ताकि बंधे पर दबाव न बढ़े। इस पर जिलाधिकारी ने कहा कि इसके लिए अलग-अलग टीम लगाकर काम कराएं, तभी जल्दी होगा। स्थानीय लोगों से भी लें सलाह मशविरा डीएम श्री शाही ने गांव के लोगों से भी बचाव सम्बन्धी जरूरी जानकारी ली। अभियंताओं से कहा कि बचाव कार्य के सम्बंध में स्थानीय लोगों से भी बातचीत व सलाह मशविरा करते रहें। निरीक्षण के बाद पत्रकारों से बातचीत में जिलाधिकारी ने बताया कि यहां के लिए पहले से एक और प्रोजेक्ट भेजा गया था, लेकिन वह इस वर्ष स्वीकृत नहीं हुआ। फिलहाल हमारा पूरा ध्यान बंधे की सुरक्षा पर है। शरणालय व राहत व्यवस्था दुरुस्त रखें जिलाधिकारी ने एसडीएम बैरिया सुरेश पाल को निर्देश दिया कि बाढ़ शरणालय एकदम तैयार रखें। वहां की व्यवस्था को लगातार देखते रहें। लोगों को आश्वस्त किया कि किसी भी स्थिति में लोगों को राहत दिलाने के लिए प्रशासन की ओर से पूरी तैयारी है। स्थानीय लोगों ने बताया कि इब्राहिमाबाद में हजार से ऊपर पशु हैं। जिलाधिकारी ने उनके टीकाकरण के बारे में जानकारी ली। कुछ पशुओं का टीका नहीं लगने की जानकारी मिलने पर एसडीएम को निर्देश दिया कि पशु विभाग को इसके लिए लगाएं। टेंगरहीं बंधे का भी लिया जायजा जिलाधिकारी एसपी शाही ने जेपीनगर से टेंगरही तक जाने वाले बंधे का भी निरीक्षण किया। उन्होंने रास्ते में पड़े रेगुलेटर व कई जगह रुक-रुक कर देखा। बाढ़ विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि इस बंधे पर भी जहां कहीं भी थोड़ी खराब स्थिति है उसको ठीक करा दिया जाए। उन्होंने कहा कि किसी जानवर आदि के द्वारा की जाने वाली मांद (बिल) पर विशेष नजर रखी जाए। अगर कहीं है तो उसको मजबूती से बंद करा दें। उन्होंने साफ किया कि पानी आने के बाद कहीं भी रिसाव जैसी स्थिति नहीं होनी चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/दीपक-hindusthansamachar.in