प्रसूता के साथ की नर्स ने अभद्रता, पति ने जिलाधिकारी सहित अन्य उच्चाधिकारियों से की शिकायत

प्रसूता के साथ की नर्स ने अभद्रता, पति ने जिलाधिकारी सहित अन्य उच्चाधिकारियों से की शिकायत
प्रसूता के साथ की नर्स ने अभद्रता, पति ने जिलाधिकारी सहित अन्य उच्चाधिकारियों से की शिकायत

जालौन, 25 जुलाई(हि.स.)। कोरोना के कहर का असर प्रसव पीड़ा से व्याकुल प्रसूता को उस वक्त भुगतना पड़ा जब सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में तैनात एक नर्स ने बिना कोरोना की जांच कराए प्रसूता व उसके परिजनों को अस्पताल परिसर से अभ्रदता करते हुए भगा दिया। आश्चर्य तो इस बात का है कि प्रसूता ने तीन दिन पूर्व ही कोरोना कि जांच उरई में कराई थी और उसने पर्ची भी दिखाई। लेकिन नर्स ने भर्ती करना तो दूर प्रसूता को देखा तक नही, इससे परेशान प्रसूता के पति ने इसकी शिकायत जिलाधिकारी सहित मुख्य चिकित्साधिकारी से की है। डाक्टरों को तो कोरोना योद्धा कहा जाता है। लेकिन अब डाक्टर कोरोना के डर से मरीजो के साथ अभ्रदता कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में देखने को मिला। जब क्षेत्र के ग्राम बबीना निवासी प्रदीप सिंह अपनी प्रसव पीड़ा से व्याकुल पत्नी प्रियंका को 2२ जुलाई को सुबह 4 बजे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले कर गए तो ड्यूटी पर मौजूद मौके पर नर्स ने उससे कोरोना जांच कराने के लिए उरई जाने के लिए कहा तो प्रदीप ने उससे कोविड 19 की जांच 19 जुलाई को कराने की बात कही और जांच रिपोर्ट की रसीद दिखाई तो नर्स भड़क गई आरोप है कि उक्त नर्स ने मरीज व उसके परिजनों के साथ अभ्रदता की और परिसर से भगा दिया। पीड़ित ने इसकी शिकायत जिलाधिकारी सहित सीएमओ से की है। इस सम्बंध में चिकित्सा अधीक्षक डा.अशोक कुमार ने बताया कि मेरे पास अभी इस तरह का कोई भी मामला संज्ञान में नही आया है अगर मामला आता है तो जांच कर कार्यवाही की जायेगी। सुर्खियों में रहता हैं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र आए दिन मरीज व उसके तीमारदार शिकायत करते रहते हैं। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.