पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, 5 सौ बेड के अस्पताल का बजट मांगा
पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, 5 सौ बेड के अस्पताल का बजट मांगा
उत्तर-प्रदेश

पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, 5 सौ बेड के अस्पताल का बजट मांगा

news

झांसी, 22 सितम्बर (हि.स.)। पूर्व केन्द्रीय ग्रामीण विकास राज्यमंत्री प्रदीप जैन आदित्य ने उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री को पत्र लिखा। जिसमें कहा कि पूरा विश्व कोरोना महामारी से जूझ रहा है, जिसमें उत्तर प्रदेश भी अछूृता नहीं है और महामारी तेजी से फैल रही है। मांग की गई कि 500 बैड के अस्पताल के लिए बजट आवंटित कराया जाए व मेडिकल काॅलेज के रिक्त पदों पर जल्द नियुक्तियां की जाए। उन्होंने सीएम को भेज पत्र में बताया कि जिले में प्रतिदिन न केवल मौतें हो रही हैं बल्कि बड़ी संख्या में कोविड संक्रमण के मामले भी सामने आ रहे हैं। वर्तमान हालात में महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कालेज, पैरामेडिकल कालेज आदि जैसे बड़े चिकित्सा संस्थान मरीजों से पूरी तरह भर चुके हैं व अस्पताल में जगह नहीं बची। आस-पास के ग्रामीण इलाकों में अस्पतालों की भी यही स्थिति हैं। कहा कि बुन्देलखण्ड का एकमात्र सबसे बड़ा मेडिकल कालेज होने के कारण आस-पास के जनपद ललितपुर से भी बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमण के शिकार मरीज आ रहे हैं। जिसका प्रमुख कारण है मेडिकल कालेज में स्वीकृत पदों के सापेक्ष बड़ी संख्या में पदों का रिक्त होना है। मेडिकल कालेज में प्रमुख अधीक्षक से लेकर टैक्रीशियन, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के 560 पद रिक्त हैं, लेकिन उन्हें ना भरे जाने के कारण मेडिकल कालेज प्रशासन को स्टाफ की कमी के चलते मरीजों के उपचार में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जबकि पूर्व में रहे मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 500 बैड के अस्पताल की घोषणा की थी। आप द्वारा भी सुपर स्पेशलिटी ब्लाॅक के उद्घाटन के समय इस 500 बैड के अस्पताल को जल्द पूर्ण किये जाने की बात कही थी। लेकिन इस अस्पताल के लिए प्रदेश सरकार के स्तर पर धनराशि अवमुक्त नहीं की गई, ऐसी स्थिति में बुन्देलखण्ड के लोगों को स्वास्थ्य सेवा का लाभ नहीं मिल पा रहा है। कोरोना महामारी को देखते हुये तत्काल इस 500 बैड के अस्पताल के लिए बजट आवंटित कराया जाए व मेडिकल कालेज के रिक्त पदों पर जल्द नियुक्तियां की जाए जिससे कि बुन्देलखण्ड के मरीजों को भटकने पर मजबूर न होना पड़े और उनकी जान बच सकें। हिन्दुस्थान समाचार/महेश-hindusthansamachar.in