पारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगरों के समृद्ध होने से सुदृढ़ होगी अर्थव्यवस्था-योगी आदित्यनाथ
पारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगरों के समृद्ध होने से सुदृढ़ होगी अर्थव्यवस्था-योगी आदित्यनाथ
उत्तर-प्रदेश

पारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगरों के समृद्ध होने से सुदृढ़ होगी अर्थव्यवस्था-योगी आदित्यनाथ

news

-मुख्यमंत्री ने मुद्रा योजना के तहत 4,500 लाभार्थियों को 60 करोड़ का ऋण किया वितरित लखनऊ, 17 सितम्बर (हि.स.)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अर्थव्यवस्था और समाज की व्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण विभिन्न ट्रेडों के हस्तशिल्पियों, कारीगरों तथा अन्य पारम्परिक उद्योगों से जुड़े लोगों को वर्तमान सरकार ने समाज की मुख्य धारा में लाने का प्रयास किया है। पहले यह लोग उपेक्षित थे। उनके पास हुनर था, लेकिन मंच नहीं था। कौशल था, लेकिन प्रोत्साहन नहीं था। राज्य सरकार ने ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ तथा ‘एक जनपद एक उत्पाद’ योजना लागू की, जिसमें बड़ी संख्या में लोगों को लाभान्वित किया गया। उन्होंने कहा कि पारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगर जब खुशहाल व समृद्ध होंगे, तभी समाज खुशहाल होगा और अर्थव्यवस्था सुदृढ़ होगी। उन्होंने कहा कि वित्तीय समावेशन के साथ कारीगरों व हस्तशिल्पियों को जोड़े जाने से आत्मनिर्भर भारत अभियान को मजबूती मिलेगी। उप्र सरकार और सिडबी के बीच एमओयू का आदान-प्रदान मुख्यमंत्री गुरुवार को यहां अपने सरकारी आवास पर ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के तहत टूल किट व प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अन्तर्गत ऋण वितरण कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने प्रतीक स्वरूप 10 लाभार्थियों को टूल किट तथा मुद्रा ऋण बैंक स्वीकृत पत्रों का वितरण किया। पूरे प्रदेश में ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ तथा मुद्रा योजना के तहत 4,500 लाभार्थियों को 60 करोड़ रुपए का ऋण वितरित किया गया। मुख्यमंत्री ने विभिन्न जनपदों के लाभार्थियों के साथ वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद भी किया। इस अवसर पर एमएसएमई क्षेत्र के विकास के लिए उत्तर प्रदेश सरकार और सिडबी के बीच एमओयू का आदान-प्रदान किया गया। कार्यक्रम भारत को समर्थ, सशक्त व आत्मनिर्भर बनाने का प्रतीक मुख्यमंत्री ने भगवान विश्वकर्मा की जयन्ती तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन पर सभी को बधाई देते हुए कहा कि ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के माध्यम से प्रशिक्षित हुए लाभार्थियों को प्रशिक्षण प्रमाण-पत्र, टूल किट तथा स्वरोजगार स्थापना के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अन्तर्गत ऋण वितरण का कार्यक्रम सराहनीय है। उन्होंने कहा कि भगवान विश्वकर्मा विश्व के शिल्पी के रूप में जाने जाते हैं। उनकी जयन्ती के अवसर पर कारखानों और वर्कशाॅप में कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। यह कार्यक्रम पूजा व श्रद्धा के अलावा ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ को और बल दे सकें, इस उद्देश्य से आज का यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी जी की 150वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में इस कार्यक्रम के माध्यम से ग्राम स्वराज्य की संकल्पना भी साकार हो रही है। यह कार्यक्रम भारत को समर्थ, सशक्त व आत्मनिर्भर बनाने का प्रतीक है। मुख्य धारा से जुड़कर आत्मनिर्भर व स्वावलम्बी बन रहे हस्तशिल्पी-कारीगर मुख्यमंत्री ने कहा कि पारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगर समाज की मुख्य धारा से जुड़कर आत्मनिर्भर व स्वावलम्बी बन रहे हैं। शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के पारम्परिक कारीगर जैसे बढ़ई, दर्जी, टोकरी बुनकर, नाई, सुनार, लोहार, कुम्हार, हलवाई, मोची एवं राज मिस्त्री की आजीविका के साधनों का सुदृढ़ीकरण ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के माध्यम से किया जा रहा है। पहले से विद्यमान शिल्पियों की श्रेणी में 03 नई श्रेणियों-भड़भूजा, धोबी तथा शिल्पकार को भी सम्मिलित किया गया है। कारीगरों की कौशल वृद्धि के लिए प्रशिक्षण प्रदान करने के उपरान्त उन्हें टूल किट वितरित की जाती है। वित्तीय वर्ष में अब तक 1,12,889 आवेदकों ने किया आवेदन मुख्यमंत्री ने कहा कि नई पहल करते हुए प्रशिक्षण एवं टूल किट प्राप्त कर चुके लाभार्थियों को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से जोड़ा जा रहा है, ताकि हमारे प्रतिभाशाली कारीगर अपना व्यवसाय स्थापित करते हुए अन्य लोगों को भी रोजगार दे सकें। उन्होंने कहा कि ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के अन्तर्गत वर्ष 2019-2020 में 19,938 कारीगरों को विभिन्न ट्रेडों में प्रशिक्षण प्राप्त करते लाभान्वित कराया गया। इस योजना के अन्तर्गत वर्तमान वित्तीय वर्ष में अब तक 1,12,889 आवेदकों ने आवेदन किया है, जिसमें से 20,000 पारम्परिक कारीगरों को प्रशिक्षण कराया जा चुका है। शेष आवेदकों को भी इसी वर्ष प्रशिक्षण दिलाया जाएगा। इस वर्ष के आवेदकों में प्रदेश वापस आए श्रमिक भी शामिल हैं। एमएसएमई तथा ओडीओपी के तहत भी उपलब्ध कराए जाएं ऋण मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना’ के अन्तर्गत लाभार्थियों को मार्जिन मनी का लाभ दिया जा रहा है। ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के सफल क्रियान्वयन में बैंक भी पूरा सहयोग प्रदान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के तहत राज्य सरकार द्वारा जितने भी प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत किए जाएंगे, ऐसे सभी आवेदकों को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से लाभान्वित किया जाए। स्टेट लेवल बैंकर्स समिति इस दिशा में कार्यवाही करते हुए आसानी से ऋण उपलब्ध कराए। उन्होंने कहा कि एमएसएमई तथा ओडीओपी के तहत भी ऋण उपलब्ध कराए जाएं। इससे कारीगर व हस्तशिल्पी लाभान्वित होंगे। साथ ही, अर्थव्यवस्था भी सुदृढ़ होगी। उन्होंने कहा कि बैंकों द्वारा प्रत्येक जनपद में इन योजनाओं के तहत ऋण का लक्ष्य निर्धारित कर उसे पूरा किया जाए। यह कारीगरों व हस्तशिल्पियों के स्वावलम्बन और आत्मनिर्भरता का आधार बनेगा तथा ग्रामीण भारत को नई पहचान मिलेगी। उन्होंने कहा कि हस्तशिल्पियों व कारीगरों को डिजिटल पेमेन्ट के साथ जोड़ा जाए। एमएसएमई के तहत 20 लाख इकाइयों को वितरित किया जाएगा ऋण मुख्यमंत्री ने कहा कि एमएसएमई के तहत 20 लाख इकाइयों को ऋण वितरित किया जाएगा। केन्द्र सरकार के आर्थिक पैकेज के तहत प्रदेश के 10 लाख ‘स्ट्रीट वेण्डर्स’ को लाभान्वित कराने का लक्ष्य रखते हुए कार्ययोजना बनायी जाए। उन्होंने स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने के लिए 05 एम्बुलेंस उपलब्ध कराए जाने पर धन्यवाद देते हुए कहा कि इस समय अनलाॅक व्यवस्था के चौथे चरण से हम सभी गुजर रहे हैं। आर्थिक और विकास की गतिविधियां संचालित हो रही हैं। ऐसे में, कोविड-19 के दृष्टिगत सावधानी व सतर्कता बरतते हुए कार्य किया जाए। सर्विलांस और काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग पर फोकस किया जाए। वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए कारीगरों से किया संवाद मुख्यमंत्री ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जनपद आगरा के गजेन्द्र सिंह (बढ़ई), जनपद झांसी की नीतू (सुनार), जनपद बिजनौर के उदित कुमार राजपूत (हलवाई) तथा जनपद भदोही के प्रमोद कुमार (हलवाई), जनपद वाराणसी के लाभार्थी (कुम्हार), जनपद गाजियाबाद के महेश कुमार (कुम्हार) से संवाद किया। लाभार्थियों ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि उन्हें ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के तहत प्रशिक्षण एवं टूल किट प्राप्त हो चुकी है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत ऋण भी उपलब्ध हुआ है। मुख्यमंत्री ने लाभार्थियों को बधाई व शुभकामनाएं दीं। हिन्दुस्थान समाचार/संजय-hindusthansamachar.in