पहाड़ों को चीरकर गरीबों की देहरी तक पहुंचेगा शुद्ध जल
पहाड़ों को चीरकर गरीबों की देहरी तक पहुंचेगा शुद्ध जल
उत्तर-प्रदेश

पहाड़ों को चीरकर गरीबों की देहरी तक पहुंचेगा शुद्ध जल

news

-प्रथम चरण में मिर्जापुर के 1606 गांवों में शुरू होगा शुद्ध जलापूर्ति मीरजापुर, 22 नवंबर (हि.स.)। विंध्यक्षेत्र के सोनभद्र व मीरजापुर जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में अब पानी के लिए हाहाकार नहीं मचेगा। केंद्र व प्रदेश सरकार की संयुक्त पहल से इन दोनों जिलों की 42 लाख की आबादी को पीने के लिए शुद्ध जल मिल सकेगा। रविवार को इसकी शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की। अब उन्हें दूरदराज से पानी नहीं ढोना पड़ेगा। इससे पहाड़ों पर गुजर-बसर करने वाले गरीबों में खुशियों की लहर है। विंध्यक्षेत्र के लिए बनी इस परियोजना का लाभ मीरजापुर के 21 लाख 87 हजार 980 ग्रामीणों को मिलेगा। जनपद के सभी 809 ग्राम पंचायतों तक नल से जल पहुंचाने की इस परियोजना की शुरूआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को वर्चुअल माध्यम से किया। इस योजना के तहत सोनभद्र जिले के 1389 गांवों को नल से जलापूर्ति शुरू की जाएगी। मीरजापुर में जहां बांध व नदियों के पानी को स्वच्छ करके जलापूर्ति की जाएगी, वहीं सोनभद्र के नदियों व झील के पानी शुद्ध किए जाएंगे। अधिकारियों ने बताया कि मीरजापुर में इस योजना पर कुल 2343 करोड़ रुपये खर्च होंगे, वहीं सोनभद्र में 3212 करोड़ खर्च किए जाएंगे। इस योजना का लाभ दोनों जिलों के करीब 42 लाख ग्रामीणों यानी दोनों जिलों के 2995 गांवों को मिलेगा। इस योजना को लेकर सदियों से शुद्ध पेयजल से वंचित पहाड़ों पर गुजर-बसर करने वाले बाशिंदों को अब बहंगी में दूरदराज के इलाकों से पानी ढोकर नहीं लाना होगा। उनके घरों में पाइप से पानी पहुंचने को लेकर लोगों में खुशी की लहर है। आधिकारिक आंकड़ों की मानें तो इस परियोजना का लाभ मीरजापुर-सोनभद्र में शिलान्यास के दो वर्ष बाद से ही कुछ गांवों में जलापूर्ति शुरू कर दी जाएगी। दो वर्ष के समय में ही यह कार्य पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस परियोजना पर दोनों जिलों को मिलाकर 5555 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। हिन्दुस्थान समाचार/गिरजा शंकर/विद्या कान्त-hindusthansamachar.in