नहर कटने से हजारों बीघा फसल जलमग्न, आवागमन भी हुआ बाधित
नहर कटने से हजारों बीघा फसल जलमग्न, आवागमन भी हुआ बाधित
उत्तर-प्रदेश

नहर कटने से हजारों बीघा फसल जलमग्न, आवागमन भी हुआ बाधित

news

फतेहपुर, 17 जुलाई (हि.स.)। जिले की गंगा नहर शुक्रवार को अचानक कट गई, जिससे किसानों की धान सहित अन्य फसलों की हजारों बीघे खेत जलमग्न हो गये। गांव के अन्दर भी पानी भर गया। सूचना मिलने पर नहर विभाग के अधिकारी कर्मचारी मौके पर पहुंचे और नहर के बांधने का काम शुरू किया। खजुहा ब्लॉक क्षेत्र के चक हाता व दरियापुर गांव के समीप देर रात अचानक नहर कट गई। जिसके बाद रात भर पानी का तेज प्रवाह चलता रहा और चक हाता तथा दरियापुर गांव तक की हजारों बीघा खड़ी फसलें पानी में डूब गई। दोनों गांव के अन्दर भी पानी भर गया। सुबह लोगों ने पानी ही पानी देखा तो पैरों तले जमीन खिसक गई। ग्रामीणों में हड़कम्प मच गया। दूर दूर तक पानी ही पानी दिखाई दे रहा था। खेतों के ऊपर तक पानी भरा हुआ था। धान की फसलें जलमग्न दिखाई दे रही थी। दरियापुर गांव के चारों ओर पानी भर गया जिससे लोगों को निकलने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। इस मामले की सूचना ग्रामीणों ने नहर विभाग के अधिकारियों तथा कर्मचारियों को दिया तो शुक्रवार की सुबह नहर विभाग के अधिकारी व कर्मचारी मौके पर पहुंचे और नहर बांधने का काम शुरू किया। दरियापुर गांव निवासी सुरेश कुमार बताते हैं कि नहर कटने से हजारों बीघा फसल जलमग्न हो गई है। सरकार को चाहिए कि इसका मुआवजा दे, वरना किसान बर्बाद हो जाएगा। वहीं जयकरण ने कहा लगभग आधी रात को नहर कटी सुबह हम लोगों ने देखा तो चारों ओर पानी ही पानी दिखाई दे रहा था। गांव के बाहर निकलने का भी रास्ता नहीं बचा है। पानी से ही निकल कर बाहर आए और इसके बाद इसकी सूचना नहर विभाग के अधिकारियों को दी गई है। खेत में पानी भर जाने के कारण धान की फसल खराब हो जाएगी। सरकार को शासन प्रशासन को इसका मुआवजा देना चाहिए। वरना किसान आर्थिक रूप से परेशान हो जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/देवेन्द्र/विद्या कान्त-hindusthansamachar.in