नवरात्रि महोत्सव की मची धूम, माता के जयकारा से गूंज उठे मंदिर
नवरात्रि महोत्सव की मची धूम, माता के जयकारा से गूंज उठे मंदिर
उत्तर-प्रदेश

नवरात्रि महोत्सव की मची धूम, माता के जयकारा से गूंज उठे मंदिर

news

-प्रसिद्ध देवी मंदिरों में महिलाओं ने की मां शैल पुत्री की पूजा अर्चना -सामाजिक दूरी का पालन कराने को मंदिरों के बाहर मुस्तैद रही पुलिस हमीरपुर, 17 अक्टूबर (हि.स.)। कोरोना संक्रमण काल में शनिवार से यहां नवरात्रि पर्व की धूम शुरू हो गयी है। प्रसिद्ध देवी मंदिरों में सामाजिक दूरी के बीच मां शैल पुत्री की पूजा अर्चना महिलाओं ने विधि विधान से की। हमीरपुर शहर में प्रसिद्ध चौरादेवी मंदिर को नवरात्रि पर्व पर सजाया गया है। यहां नवरात्रि पर्व के पहले दिन पुजारी ने सामाजिक दूरी के बीच मां शैल पुत्री की पूजा अर्चना विधि विधान से सम्पन्न करायी। शारदीय नवरात्रि को लेकर सुबह से ही मंदिरों में श्रद्धालु हाजिरी लगाने पहुंचे। किसी ने कोरोना संक्रमण के कारण बाहर से देवी मां के दर्शन किये तो एक-एक कर तमाम लोग मंदिर के अंदर माता रानी के चरणों में माथा टेका। चौरादेवी मंदिर परिसर में भी पूजन सामग्री की दुकानें लगायी गयी है लेकिन यहां सभी दुकानें सन्नाटे में है। इधर अमन शहीद मुहाल में दुर्गा मंदिर, बड़ी देवी मंदिर व पटकाना में प्राचीन देवी मंदिर में भी महिलायें मां शैल पुत्री की पूजा करने पहुंची। माता के जयकारा से मंदिर गूंज उठे है। नगर में गौरादेवी, शीतला माता, फूलारानी, सहित अन्य देवी मंदिरों में नवरात्रि पर्व की रौनक देखी जा रही है। श्रद्धालुओं ने नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना के साथ दुर्गा सप्तशती का पाठ किया। शहर के रमेड़ी मुहाल में देवादास मंदिर के पास इस बार कोरोना गाइड लाइन के मद्देनजर देवी पंडाल सजाया गया है। जबकि शहर के अन्य इलाकों में भी देवी पंडाल सजाकर प्रतिमायें स्थापित की गयी है। जिले के सरीला क्षेत्र में भी नवरात्रि पर्व की धूम मच गयी है। भेड़ी गांव में स्थित एतिहासिक मां भुवनेश्वर मंदिर में सुबह से श्रद्धालु पूजा अर्चना कर रहे है। अभी तक एक हजार से अधिक लोग मां के दर्शन कर चुके है। मंदिर को भी खूब सजाया गया है। राठ, कुरारा और मौदहा क्षेत्र में नवरात्रि की रौनक देवी मंदिरों में देखी जा रही है। ज्वाला देवी, चंडिका देवी सहित अन्य प्रसिद्ध देवी स्थलों में कोरोना पर आस्था भारी साबित हो रही है। बड़ी संख्या में महिलायें भी माता के दरबार में हाजिरी लगाने पहुंची है। इधर पंडित दिनेश दुबे ने बताया कि नवरात्रि पर्व के पहले दिन मां शैल पुत्री के दर्शन करना और उन्हें विधि विधान से पूजा करने से घर में खुशहाली आती है। पूजा अर्चना किसी भी समय की जा सकती है। उन्होंने बताया कि नवरात्रि पर्व के आगाज होते ही कोरोना महामारी की चाल अब मंद होने लगेगी। फिर भी लोगों को मास्क और सामाजिक दूरी का ख्याल अच्छे ढंग से करना चाहिये। हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/राजेश-hindusthansamachar.in