दो बच्चों को विषाक्त देकर महिला ने खुद लगाई फांसी, तीनों की मौत
दो बच्चों को विषाक्त देकर महिला ने खुद लगाई फांसी, तीनों की मौत
उत्तर-प्रदेश

दो बच्चों को विषाक्त देकर महिला ने खुद लगाई फांसी, तीनों की मौत

news

जालौन, 16 अक्टूबर (हि.स.)। थाना क्षेत्र के हनुमान गढ़ी में एक महिला ने अपने दो बच्चों को विषाक्त खिला दिया। इसके बाद वह खुद भी फांसी पर झूल गई। जिससे तीनो की मौके पर ही मौत हो गई। इसी बीच घर पहुंचे पड़ोसी ने जब बच्चो को अचेत व महिला को फांसी पर झूलता देखा तो शोर मचाना शुरू कर दिया। इससे मौके पर लोगो की भीड़ जमा हो गई। पड़ोसियों ने मामले की सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने जांच पड़ताल कर शवो को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। कस्बा एट के मोहल्ला हनुमान गढ़ी निवासी शबाना 37 वर्ष पत्नी मुस्ताक का शव शुक्रवार को घर मे फांसी के फंदे पर झूलता मिला। जिसके पास ही उसकी 19 वर्षीय पुत्री रोशनी व 15 वर्षीय पुत्र आशिक के शव भी पड़े थे। शाम के समय घर पहुंचे पड़ोसी ने जब उसे आवाज दी तो दरवाजा नहीं खुला। जब पड़ोसी घर के अंदर पहुंचा तो तीनों शवो को पड़ा देख उसके होश उड़ गए। मामले की सूचना पड़ोसियों ने पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने जांच पड़ताल करते हुए शवो को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। महिला का पति मुस्ताक ट्रक ड्राइवर है। जो कि बीते पांच दिनों से बाहर था। जिसे सूचना दे दी गई है। जन्म से अपाहिज थे रोशनी व आशिक मुस्ताक की 19 वर्षीय पुत्री रोशनी व 15 वर्षीय पुत्र आशिक जन्म से ही अपाहिज थे। जिनका पालन पोषण उनकी मां शबाना ने बड़े दुलार से किया था। उसका पति मुस्ताक ट्रक ड्राइवर है जो कि अक्सर बाहर ही रहता है। महिला ने किन परिस्तिथियों में यह कदम उठाया यह क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। आर्थिक रूप से टूट चुकी थी शबाना एट। मुस्ताक अपने माता पिता से अलग हनुमानगढ़ी के मकान में पत्नी शबाना व दोनों बच्चो के साथ रहता था। वह ही घर मे अकेला कमाने वाला था। शबाना की मौत के बाद चर्चा है कि काफी समय से वह आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे। मुस्ताक भी पांच दिन पहले ही ट्रक लेकर निकला था। ऐसे में उसके आगे खुद व बच्चो के भरण पोषण का संकट आ खड़ा हुआ था। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल शर्मा-hindusthansamachar.in