देश और समाज की सबसे बड़ी चुनौती स्वीकार करने की जिम्मेदारी शिक्षक की -अनिल राजभर
देश और समाज की सबसे बड़ी चुनौती स्वीकार करने की जिम्मेदारी शिक्षक की -अनिल राजभर
उत्तर-प्रदेश

देश और समाज की सबसे बड़ी चुनौती स्वीकार करने की जिम्मेदारी शिक्षक की -अनिल राजभर

news

-प्रतापगढ़ में 1084 शिक्षकों को दिया गया नियुक्ति पत्र प्रतापगढ़, 15 अक्टूबर (हि.स.)। जिले के 1084 शिक्षक और शिक्षिकाओं को शुक्रवार को प्रदेश सरकार के पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री अनिल राजभर ने नियुक्ति पत्र दिया। शुक्रवार को शहर स्थिति क्षेत्रीय ग्राम्य विकास संस्थान अफीम कोठी सभागार में नियुक्ति पत्र वितरण समारोह आयोजित किया गया, जिसमें पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलन कर कार्यक्रम की शुरूआत की। कार्यक्रम में मंत्री, सांसद, विधायक ने नव चयनित शिक्षकों को नियुक्ति पत्र का वितरण किया। कार्यक्रम के दौरान मंत्री ने कहा कि कठिन परिश्रम करने के पश्चात् आज आप लोगों को नवनियुक्त शिक्षक के रूप में जो नियुक्ति पत्र का वितरण किया जा रहा है। इस सफलता के लिये सभी को बधाई देता हूॅ। आज आप लोगों का सपना साकार हुआ है, गुरू को भगवान का दर्जा दिया गया है इसलिये आपके शिक्षण कार्य में जिन गुरूओं,अध्यापक द्वारा आपकी सफलता में सहयोग किया गया है उनका सम्मान सदैव आप लोग करते रहेंगें। देश व समाज की सबसे बड़ी चुनौती को स्वीकार करने की जिम्मेदारी अब आपके कन्धों पर है, प्राथमिक शिक्षा ही व्यक्ति के जीवन की बुनियाद है जो व्यक्ति के भविष्य की दशा और दिशा तय करती है। मंत्री ने कहा कि प्रदेश में 31277 शिक्षकों का चयन किया गया है, जिन्हें प्रदेश के प्रत्येक जनपदों में नियुक्ति पत्र वितरण का कार्य किया जा रहा है। इसमें 6500 शिक्षा मित्र का चयन भी शिक्षक के रुप में किया गया है। प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों में एक करोड़ 34 लाख छात्रों की संख्या होती थी। लेकिन जब से स्कूल चलो अभियान प्रारम्भ किया गया है तब से प्रदेश में छात्रों की संख्या एक करोड़ 80 लाख हो गयी है। प्रदेश के श्रावस्ती जिले में 180 विद्यालय ऐसे थे, जहां पर विद्यालय में एक भी शिक्षक तैनात नही था, लेकिन प्रदेश सरकार द्वारा अब यह व्यवस्था लागू की गयी है कि प्रदेश का कोई परिषदीय विद्यालय शिक्षक विहीन नहीं रहेगा। विश्वनाथगंज विधायक डा. आरके वर्मा ने कहा कि नियुक्ति के लिये जो शिक्षक आज उपस्थित हुये हैं उनके लिये यह यादगर पल है। जिसको वे कभी भी भूल नही पायेगें। नवनियुक्त शिक्षक की यह जिम्मेदारी है कि विद्यालय की शिक्षा व्यवस्था की गुणवत्ता में दिन-प्रतिदिन निरन्तर परिश्रम कर व्यापक स्तर पर सुधार लाये, जिससे देश की भावी पीढ़ी शिक्षा के क्षेत्र में प्रगति के पथ पर अग्रसर हो। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अशोक कुमार सिंह ने बताया कि जनपद के 1176 शिक्षक चयनित हुये थे, जिसमें से काउसलिंग के दौरान 66 अभ्यर्थी अनुपस्थित रहे और 26 अभ्यर्थियों के अंक में भिन्नता पायी गयी इसलिये 1084 शिक्षक और शिक्षिकाओं को नियुक्ति पत्र का वितरण किया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/दीपेन्द्र-hindusthansamachar.in