दहेज हत्यारोपी सास ससुर के खिलाफ उत्पीड़नात्मक कार्रवाई पर रोक
दहेज हत्यारोपी सास ससुर के खिलाफ उत्पीड़नात्मक कार्रवाई पर रोक
उत्तर-प्रदेश

दहेज हत्यारोपी सास ससुर के खिलाफ उत्पीड़नात्मक कार्रवाई पर रोक

news

प्रयागराज, 12 सितम्बर (हि.स.)। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दहेज हत्या व उत्पीड़न के आरोपी सास-ससुर व अन्य को बड़ी राहत दी है। कोर्ट ने याची के विरुद्ध उत्पीड़नात्मक कार्रवाई पर रोक लगा दी है और राज्य सरकार व विपक्षियों से चार हफ्ते में जवाब मांगा है। यह आदेश न्यायमूर्ति मंजूरानी चौहान ने राम कृष्ण यादव व अन्य की याचिका पर दिया है। मृतका का पति पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। याचिका पर अधिवक्ता का कहना था कि याची व विनीता यादव को झूठे आरोप में फंसाया गया है। याचिका में दाखिल चार्जशीट को रद्द किये जाने की मांग की गयी है। श्रीमती निर्मला देवी ने थाना चकेरी, कानपुर नगर में दहेज हत्या व उत्पीड़न के आरोप में प्राथमिकी दर्ज करायी है। जिसमे दहेज उत्पीड़न कर बहू तेजस्विनी को आत्महत्या के लिए विवश करने का याचियों पर आरोप लगाया गया है। याची का कहना है कि उनका बेटा एयर फोर्स में असम में तैनात है। तेजस्विनी शादी के बाद से ही अपने पति के साथ रही है। ससुराल में नहीं रही। शादी के दो साल बाद 10 नवम्बर 19 को बीटीसी करने के लिए पति के साथ मायके आयी। इसके बाद फोन पर पति से झगडा हुआ। 23 नवम्बर 19 को तेजस्विनी ने मायके में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। और मृतक की मां ने पूरे परिवार को दहेज उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज करायी है। याची का इस घटना से कोई सरोकार नहीं है। हिन्दुस्थान समाचार/आर.एन/राजेश-hindusthansamachar.in