दर्जनों गांवों तक पहुंचा घाघरा का पानी, लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रहा प्रशासन
दर्जनों गांवों तक पहुंचा घाघरा का पानी, लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रहा प्रशासन
उत्तर-प्रदेश

दर्जनों गांवों तक पहुंचा घाघरा का पानी, लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रहा प्रशासन

news

-14 संपर्क मार्गों पर नाव लगाकर लोगों को निकाला जा रहा बाहर -बैराजों से छोड़ा गया 4.24 लाख क्यूसेक पानी, दो स्थानों पर शुरू हुआ लंगर बहराइच, 30 जुलाई (हि. स.)। घाघरा नदी में लगातार बढ़ रहे जलस्तर से महसी तहसील क्षेत्र में तबाही मची हुई है। 12 ग्राम पंचायतों के दर्जनों मजरों में पानी भर गया है। बौंडी थाने में भी पानी भर गया है। लोग सुरक्षित स्थानों की ओर पहुंच रहे हैं। एसडीएम और एनडीआरएफ की टीम बाढ़ में फंसे लोगों को बाहर निकाल रही है। महसी में घाघरा नदी खतरे के निशान से २५ सेंटीमीटर ऊपर बह रही है। वहीं गुरुवार को भी 4.24 लाख क्यूसेक पानी नदी में छोड़ा गया है। तहसील प्रशासन की ओर से दो स्थानों पर लंगर शुरू किया गया है। लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए १८ संपर्क मार्गों पर नाव लगाए गए हैं। जिला प्रशासन ने हाई अलर्ट घोषित कर दिया है। लोगों को तटबंध पर पहुंचने के निर्देश दिए गए हैं। महसी तहसील में जिलाधिकारी के निर्देश पर अपर जिलाधिकारी जयचंद्र पांडेय ने बाढ़ से घिरे गांवों का निरीक्षण किया। ग्रामीणों से वार्ता की। साथ ही लोगों को तटबंध पर पहुंचने के निर्देश दिए। उपजिलाधिकारी एसएन त्रिपाठी मांझा दरिया बुर्द गांव में फंसे लोगों को बाहर निकलवा रहे हैं। एडीएम ने बताया कि ग्रामीणों को बाढ़ से बाहर निकालने के लिए तहसील क्षेत्र के 14 संपर्क मार्गों पर नाव लगाया गया है। नाव के द्वारा ग्रामीण बाहर निकाले जा रहे हैं। बाढ़ के चलते लगभग 30 हजार की आबादी प्रभावित है। एडीएम ने बताया कि तहसील परिसर व शारदासिंहपुरवा गांव में लंगर का संचालन शुरू किया गया है। बाढ़ पीड़ितों को लंगर केंद्र से भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। वहीं गुरुवार को बनबसा, गोपिया और गिरिजापुरी बैराज से 4.24 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। यह पानी धीरे-धीरे घाघरा नदी में पहुंच गया है। साढ़े चार लाख क्यूसेक पानी पहुंचने से स्थिति और विकराल हो जाएगा। इन गांवों में भरा बाढ़ का पानी महसी तहसील क्षेत्र के पचदेवरी, रामदहिनपुरवा, ठक्कड़पुरवा, गोड़ियनपुरवा, मंगलपुरवा, पिपरिया, चुरईपुरवा, विरजापुरवा, बेहननपुरवा, नगेसरपुरवा, तुरंतीपुरवा, अर्जुनपुरवा, जानकी नगर, भौरी, अंगरौरा, दुबहा, पूरे प्रसाद, चमरही, मांझा दरिया बुर्द, लोनियनपुरवा, अहिरनपुरवा, जोगलापुरवा, छत्तरपुरवा, रानीबाग, मल्लाहनपुरवा, सिलौटा, जोगापुरवा, कुट्टी, गोलागंज, कायमपुर समेत 40 से अधिक मजरे में पानी भरा हुआ है। हिंदुस्थान समाचार/राहुल/उपेन्द्र-hindusthansamachar.in