त्योहारों की आड़ में अराजकता को किसी प्रकार की नहीं मिले छूट: योगी आदित्यनाथ
त्योहारों की आड़ में अराजकता को किसी प्रकार की नहीं मिले छूट: योगी आदित्यनाथ
उत्तर-प्रदेश

त्योहारों की आड़ में अराजकता को किसी प्रकार की नहीं मिले छूट: योगी आदित्यनाथ

news

-कहा, उत्तेजना, सनसनी और भड़काऊ बयानों व संदेशों पर हो कड़ी कार्रवाई मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि पर्वाें व त्योहारों की आड़ में अव्यवस्था व अराजकता को किसी भी प्रकार की छूट न मिले। समय रहते कार्रवाई हो। छोटी सी छोटी घटना पर ध्यान दिया जाए। फ्लैग मार्च व फुट पेट्रोलिंग की जाए। रूट चार्ट प्लान तैयार रहे। अभिसूचना से जानकारी प्राप्त होने पर तुरन्त कार्रवाई हो। उन्होंने गुरुवार को आगामी पर्वों व मिशन शक्ति अभियान के मद्देनजर मण्डल व जनपद स्तरीय वरिष्ठ प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि संवेदनशील स्थानों पर पूरी सजगता व सतर्कता बरती जाए। अफवाहों को स्थान न मिले। सोशल मीडिया के प्रति निरन्तर सतर्कता रहे। मीडिया के समक्ष तत्काल घटना के सम्बन्ध में सही तथ्य प्रस्तुत किये जाएं। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था को प्रभावित करने वाले तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। शरारती व असामाजिक तत्वों तथा माहौल खराब करने वालों पर कड़ी नजर रखी जाए। भ्रष्टाचार व अपराधियों को संरक्षण देने वाले कर्मियों को चिह्नित कर उनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। राज्य सरकार की अपराध व भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टाॅलरेन्स की नीति है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि उत्तेजना, सनसनी और भड़काऊ बयानों व संदेशों पर कड़ी कार्रवाई हो। अधिकारियों की जिम्मेदारी और जवाबदेही हर-हाल में सुनिश्चित हो। उन्होंने कहा कि थाने स्तर पर मेरिट के आधार तैनाती हो। महिलाओं व बालिकाओं के प्रति अपराधों पर नियंत्रण के लिए एण्टी रोमियो स्क्वाॅयड सक्रिय रहे। मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी समय में नवरात्रि व दशहरा, दुर्गा पूजा, बारावफात, वाल्मीकि जयन्ती, दीपावली, छठ पूजा, कार्तिक पूर्णिमा आदि त्योहार पड़ेंगे। उन्होंने कहा कि शासन, मण्डल, जनपद, तहसील तथा थाना स्तर के सभी अधिकारी इन त्योहारों को सौहार्द पूर्ण वातावरण में सम्पन्न किये जाने के लिए अपनी-अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करें। पूजा-पण्डालों व रामलीला मंचन के स्थानों के आस-पास साफ-सफाई और सुरक्षा के विशेष प्रबन्ध सुनिश्चित किये जाएं। महिलाओं की सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया जाए। दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन के सम्बन्ध में पहले से तैयारी कर ली जाए। नदियों के प्रदूषण को नियंत्रित किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जिलाधिकारी व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक अपने-अपने जनपदों में पर्व के आयोजकों से संवाद स्थापित करें, ताकि कोई कठिन परिस्थिति उत्पन्न न हो। उन्होंने पर्वाें के दौरान साफ-सफाई, निर्बाध जलापूर्ति व विद्युत आपूर्ति के प्रबन्ध सुनिश्चित किये जाने के निर्देश दिये। हिन्दुस्थान समाचार/संजय-hindusthansamachar.in