तीन महीने में सौ करोड़ रुपये के विकास कार्य जनता को समर्पित : पं. श्रीकान्त शर्मा
तीन महीने में सौ करोड़ रुपये के विकास कार्य जनता को समर्पित : पं. श्रीकान्त शर्मा
उत्तर-प्रदेश

तीन महीने में सौ करोड़ रुपये के विकास कार्य जनता को समर्पित : पं. श्रीकान्त शर्मा

news

- तीन महीनों में सड़क, नाली, स्ट्रीट लाइट, पेयजल, सीवर - लाइन, अंडर ग्राउंड केबलिंग के सौ करोड़ रुपये से अधिक के कार्यों का शिलान्यास व लोकार्पण - शुक्रवार को विभिन्न वार्डों में 3 करोड़ 72 लाख रुपये से सड़क निर्माण के कार्यों का शिलान्यास - डीएम, नगर आयुक्त और एमवीडीए वीसी लगातार करें विकास कार्यों की मॉनिटरिंग - राज्य स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित हो रहा है पवित्र धाम मथुरा और वृन्दावन - वर्ष 2026 तक जल जीवन मिशन के तहत मथुरा जिले के हर घर में नल से पानी पहुंचेगा मथुरा, 18 सितम्बर (हि.स.)। ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री एवं मथुरा-वृंदावन के विधायक पं. श्रीकान्त शर्मा ने शुक्रवार दोपहर वर्चुअल संवाद आमजन और प्रतिनिधियों करते हुए मथुरा-वृंदावन के छह वार्डों की नौ सड़कों के निर्माण का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि तीन महीनों में कॉलोनियों व प्रमुख जगहों पर करीब सौ करोड़ रुपये के सड़क, नाली, स्ट्रीट लाइट, पेयजल, सीवर लाइन, अंडर ग्राउंड केबलिंग के कार्यों का शिलान्यास व लोकार्पण किया गया है। शुक्रवार वर्चुअल संवाद के जरिए ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा कि पवित्र धाम मथुरा वृन्दावन में श्रद्धालुओं व जन सुविधा की बड़ी योजनाओं पर जितना जोर दिया जा रहा है। उतना ही फोकस स्थानीय निवासियों के लिये मूलभूत सुविधाओं के विकास पर भी है। इसी क्रम में शहर को जल्द ही जुबली पार्क में मल्टी लेवल पार्किंग और ओपन थिएटर की सौगात मिलने जा रही है। वहीं मंत्री ने कहा कि पूरे मथुरा-वृन्दावन को मीठे पानी की आपूर्ति, सड़क, नाली, सीवर, बिजली, जल निकासी से मुक्ति देने तक इसी तेजी से लगातार कार्य जारी रहेंगे। ऊर्जा मंत्री ने डीएम, नगर आयुक्त और एमवीडीए वीसी को निर्देश दिये कि बड़े विकास कार्यों की ही नहीं आमजन की सुविधा से जुड़े छोटे से छोटे निर्माण कार्यों की भी स्वयं मॉनिटरिंग करें। खामी पाये जाने पर कार्रवाई करें, गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं होना चाहिए। यमुना शुद्धिकरण के लिये शेष नालों को बंद करने का कार्य और मसानी ट्रांस यमुना प्लांट की 480 करोड़ की लागत से बढ़ाई जा रही 50 क्षमता के कार्य भी लगातार मॉनिटरिंग के निर्देश जिला प्रशासन, नगर निगम व जल निगम अधिकारियों को दिये। यह कार्य मार्च 2021 में पूरा होना है। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में जिस तरह सौभाग्य योजना के तहत हर इच्छुक घर को बिजली मिली है उसी तरह वर्ष 2026 तक जल जीवन मिशन के तहत मथुरा जिले के हर घर में नल से पानी पहुंचेगा। इसके लिये डीपीआर बनाने का कार्य हो रहा है। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि मथुरा-वृंदावन में भी स्वच्छ गंगाजल आपूर्ति पर तेजी से कार्य चल रहा है। मथुरा-वृंदावन में पहले फेज में वर्ष 2021 तक 176 किमी गंगा जल आपूर्ति का पाइपलाइन नेटवर्क तैयार हो रहा है। कुल 950 किमी का पाइपलाइन नेटवर्क तैयार होना है। हाईवे से सटी 350 कॉलोनियों को जलभराव से मुक्ति के लिये जरूरी कार्य अगले 6 महीनों के अंदर पूरा करने के ऊर्जा मंत्री ने निर्देश दिये। लक्ष्मी नगर से नगला कोल्हू और धौली प्याऊ से हनुमान मंदिर, बिरजापुर से टैकमेन सिटी, पाली खेड़ा से नरसी विहार और एटीवी फैक्टरी से महौली चैराहे तक आरसीसी नालों का कार्य इसके लिये किया जा रहा है। शहर में चल रहे सीवर लाइन के कार्य को भी इस साल दिसंबर तक पूरा किया जाना है। ऊर्जा मंत्री ने इसकी लगातार मॉनिटरिंग और इसकी वजह से सड़कों में हुई तोड़फोड़ की जल्द मरम्मत के निर्देश दिये। विश्व बैंक की प्रोपुअर पर्यटन योजना के तहत 22 गलियों में 38 करोड़ रुपये की लागत से चल रहे प्रमुख गलियों के कार्य मंदिर खुलने के पहले पूरा करने और परिक्रमा मार्ग में श्रद्धालुओं की अड़चनों को दूर करने के ऊर्जा मंत्री ने निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि अगले हफ्ते वो स्वयं परिक्रमा करेंगे। ये रहे उपस्थित वर्चुअल संवाद में महापौर डॉ0 मुकेश आर्यबन्धु, जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र, नगर आयुक्त रविन्द्र कुमार मांदड़, एमवीडीए उपापध्यक्ष नगेन्द्र प्रताप एवं परियोजना अधिकारी डूडा रमेश कुमार कौशिक एवं संबंधित वार्डों के पार्षदगण उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार/महेश/मोहित-hindusthansamachar.in