तीन तलाक: मुस्लिम महिलाएं बोलीं, 'आजादी के एक साल पूरे हुये'
तीन तलाक: मुस्लिम महिलाएं बोलीं, 'आजादी के एक साल पूरे हुये'
उत्तर-प्रदेश

तीन तलाक: मुस्लिम महिलाएं बोलीं, 'आजादी के एक साल पूरे हुये'

news

-बोलीं,आजादी के एक साल पूरे हुये,प्रधानमंत्री मोदी के तस्वीर पर बांधी राखी वाराणसी, 31 जुलाई (हि.स.)। तीन तलाक समाप्त होने के एक साल पूरा होने पर शुक्रवार को मुस्लिम महिला फाउण्डेशन से जुड़ी महिलाओं ने जश्न मनाकर खुशी का इजहार किया। सुभाष भवन, इन्द्रेश नगर, लमही में जुटी महिलाओं ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के तस्वीर पर राखी बांधकर उन्हें अपना भाई बताया। तस्वीर पर राखी बांधने के साथ ही महिलाओं ने एक दूसरे का मिष्ठान्न भी खिलाई। प्रधानमंत्री को कानून बनाने पर धन्यवाद देते हुए फाउण्डेशन की नेशनल सदर नाजनीन अंसारी ने कहा कि तीन तलाक को लेकर उन्होंने पूरे देश का दौरा कर मुस्लिम महिलाओं को जागरूक किया था। इसके खिलाफ मुहिम चलाने पर मुस्लिम कट्टरपंथियों ने न सिर्फ जान से मारने की धमकी दी, बल्कि मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के पूर्वांचल प्रभारी मो. अजहरूद्दीन के ऊपर जानलेवा हमला किया। उन्होंने बताया कि वर्ष 2013 में 500 नकाबपोश मुस्लिम महिलाओं के द्वारा शुरू किया गया तीन तलाक के खिलाफ आन्दोलन पूरे देश में फैल गया। तब इस्लामिक कट्टरपंथियों की डर की वजह से किसी की हिम्मत नहीं थी कि कोई तीन तलाक के खिलाफ बोल सके। नाजनीन ने बताया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य इन्द्रेश कुमार ने जब आन्दोलन की कमान सम्भाली, तब लाखों मुस्लिम महिलाओं की उम्मीद जग गयी। तीन तलाक को लेकर मुस्लिम महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की, जिस दिन उसका फैसला आना था। बनारस की मुस्लिम महिलाएं पातालपुरी मठ पहुंचकर फैसला पक्ष में हो, इसके लिये 100 बार हनुमान चालीसा का पाठ किया था। उन्होंने बताया कि वर्ष 2013 में उनके नेतृत्व में मुस्लिम महिलाओं ने तब गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी को राखी भेजकर भाई बनाया और तीन तलाक के मुद्दे पर साथ देने की अपील की। नरेन्द्र मोदी ने राखी के बंधन को न सिर्फ स्वीकार किया, बल्कि प्रधानमंत्री बनने के बाद संसद से कानून भी पारित करवा दिया। जश्न मनाने के दौरान महिलाओं ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं इन्द्रेश कुमार के लिये बधाई गीत गाया। कार्यक्रम में विशाल भारत संस्थान के अध्यक्ष डा० राजीव श्रीवास्तव ने भी इस कुप्रथा के समाप्त होने पर प्रधानमंत्री का आभार जताया। जश्न मनाने वाली महिलाओं में नजमा परवीन, सोनी बानो, शहनाज, रूकसाना बानो, नाजमा, नगीना बानो, अर्चन भारतवंशी, डा. मृदुला जायसवाल, सुनिता श्रीवास्तव, पूनम श्रीवास्तव, सरोद देवी आदि शामिल रही। शुक्रिया कार्यक्रम में भी आभार जताया भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के गुलाबबाग सिगरा स्थित कार्यालय में भी तीन तलाक कानून बनने के एक साल पूरा होने पर शुक्रिया कार्यक्रम का आयोजन किया गया। दिल्ली से वर्चुअल संवाद में यहां की मुस्लिम महिलाएं भी शामिल हुईं। संवाद में केंद्रीय कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद, अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने इन महिलाओं से संवाद कर उनके अनुभव को पूछा। महिलाओं ने कहा कि तीन तलाक कानून ने मुस्लिम समाज की महिलाओं को मजबूती दी है। नई सड़क निवासी सदब आलम संवाद की शुरूआत हुई। सदब ने बताया कि अब मुस्लिम महिलाओं का आत्मविश्वास बढ़ रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/उपेन्द्र/राजेश-hindusthansamachar.in