ड्यूटी से 733 दिन गैर हाजिर होने पर कांस्टेबल बर्खास्त
ड्यूटी से 733 दिन गैर हाजिर होने पर कांस्टेबल बर्खास्त
उत्तर-प्रदेश

ड्यूटी से 733 दिन गैर हाजिर होने पर कांस्टेबल बर्खास्त

news

बागपत, 24 जुलाई (हि.स.)। जिले में पूर्व विधायक रामवीर शौकीन की फरारी में लापरवाही उजागर होने के बाद भी एक कांस्टेबल ने अपनी कार्यशैली में सुधार नहीं किया। वह इस केस से पहले भी ड्यूटी से लंबे समय गैर हाजिर रहा और बाद में भी। इस तरह ड्यूटी से 733 दिन गैर हाजिर होने पर पुलिस अफसरों ने उसको बर्खास्त कर दिया। एएसपी अनित कुमार का कहना है कि कांस्टेबल सुंदर सिंह ड्यूटी से 733 दिन अनुपस्थित रहा। नोटिस देने के बाद भी सिपाही ने कोई जबाव नहीं दिया। इसी कारण कांस्टेबल सुंदर सिंह को बर्खास्त किया गया। पूर्व विधायक रामवीर शौकीन की फरारी के मामले में भी कांस्टेबल सुंदर सिंह की तत्कालीन सीओ लाइन की जांच में लापरवाही मिली थी। इसलिए उसको निलंबित किया गया था। इस केस की फिलहाल विभागीय जांच चल रही है। बता दें कि देहरादून पुलिस से 15 दिसंबर 2014 को दो एके-47 और एक कार्बाइन लूटकर बदमाशों ने गैंगस्टर अमित उर्फ भूरा निवासी सरनावली (मुजफ्फरनगर) को छुड़ा लिया था। पुलिस ने राजफाश किया था कि कुख्यात सुनील राठी के इशारों पर उसके गिरोह के सदस्यों ने वारदात को अंजाम दिया है। केस की साजिश रचने के आरोपित दिल्ली के मुंडका विधान सभा क्षेत्र के पूर्व विधायक रामवीर शौकीन को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया गया था। पूर्व विधायक बागपत जेल में बंद था। 26 सितंबर 2018 को एसआइ चमन सिंह, हेड कांस्टेबल राजकुमार व कांस्टेबल सुंदर सिंह पूर्व विधायक रामवीर शौकीन को इलाज के लिए जेल से दिल्ली के सफदरगंज हॉस्पिटल लेकर गए थे। जहां से रामवीर शौकीन पुलिस कर्मियों को चकमा देकर फरार हो गया था। दिल्ली के संबंधित थाने में घटना का मुकदमा दर्ज हुआ था। लापरवाही उजागर होने पर तत्कालीन बागपत एसपी ने तीनों पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया था। उधर एएसपी अनित कुमार का कहना है कि जांच में सामने आया कि पूर्व विधायक रामवीर शौकीन को तीनों पुलिसकर्मी सफदरगंज हॉस्पिटल की बजाए, उसकी ससुराल देवली रोड खानपुर लेकर चले गए थे। उसको हथकड़ी भी नहीं लगा रखी थी। इसी का फायदा उठाकर आरोपित फरार हो गया था। एएसपी के मुताबिक इस मामले में बर्खास्तगी के संबंध में हेड कांस्टेबल राजकुमार को गत 14 जुलाई को नोटिस दिया गया है। जिसको 15 दिन के अंदर जबाव देना होगा। साथ ही एसआइ चमनसिंह की बर्खास्तगी के संबंध में मेरठ आइजी को पत्र लिया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/गौरव/दीपक-hindusthansamachar.in