डिप्टी सीएमओ मिले गैरहाजिर, वेतन रोकने का आदेश
डिप्टी सीएमओ मिले गैरहाजिर, वेतन रोकने का आदेश
उत्तर-प्रदेश

डिप्टी सीएमओ मिले गैरहाजिर, वेतन रोकने का आदेश

news

बांदा, 17 सितंबर( हि.स.)। जिलाधिकारी आनंद कुमार सिंह ने गुरूवार को मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान जहां गंदगी देखकर भड़के, वहीं डिप्टी सीएमओ की गैरमौजूदगी पर नाराजगी जाहिर करते हुए उनका वेतन रोकने का निर्देश दिया। इस दौरान डॉ. आर.एन प्रसाद अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, डॉ. एम.सी पाल उप मुख्य चिकित्साधिकारी उपस्थित मिले। जबकि डॉ. एन.के सिंह उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी न तो कार्यालय में मिले और न ही उपस्थिति पंजिका में हस्ताक्षर ही थे। उपस्थिति पंजिका में 03 अगस्त से 21 अगस्त तक निरन्तर अनुपस्थित पाये गए। जिस पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया कि इनकी अनुपस्थित सम्बन्धी स्पष्टीकरण प्राप्त करें तथा आज की अनुपस्थित सम्बन्धी इनका वेतन आहरण अग्रिम आदेशों तक के लिए रोक दिया गया है। जिलाधिकारी ने कार्यालय उपस्थिति पंजिका का निरीक्षण किया तथा निर्देश दिया कि सभी अधिकारी कर्मचारी समय से उपस्थित होकर हस्ताक्षर अवश्य करें। उन्होंने संविदा चिकित्सकों एवं कार्मिकों की उपस्थित पंजिका का भी निरीक्षण किया। जिसमें डॉ. सतेन्द्र शुक्ला के उपस्थित पंजिका में हस्ताक्षर नहीं पाये गए, जबकि कन्ट्रोल रूम में उपस्थित मिले। डॉ. रवीन्द्र नाथ मिश्रा, अशीष कुमार, अरविन्द कुमार वर्मा, रासिद हुसैन, अरविन्द्र गुप्ता, दीपक प्रसाद, धमेन्द्र कुमार तथा दानिश सिद््दकी के हस्ताक्षर नही हैं और न ही कार्यालय में उपस्थित पाये गए। जिस पर जिलाधिकारी द्वारा नाराजगी व्यक्त करते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया कि इनके कार्य इत्यादि का आंकलन कर अपनी आख्या दें कि ये चिकित्सक कार्मिक सेवा में बनाये रखने हेतु उपयुक्त हैं अथवा नहीं तथा सभी अनुपस्थितों का आज का मानदेय तत्काल प्रभाव से रोके जाने का निर्देश दिया। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एन.डी.शर्मा ने बताया कि उन्होंने हाल ही में मुख्य चिकित्सा अधिकारी का कार्यभार ग्रहण किया है। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल/विद्या कान्त-hindusthansamachar.in