ज्ञान को जितना आत्मसात् करेंगे, आत्मबल उतना ही बढ़ेगा : सचिव
ज्ञान को जितना आत्मसात् करेंगे, आत्मबल उतना ही बढ़ेगा : सचिव
उत्तर-प्रदेश

ज्ञान को जितना आत्मसात् करेंगे, आत्मबल उतना ही बढ़ेगा : सचिव

news

प्रयागराज, 22 नवम्बर (हि.स.)। शिक्षा मन के द्वार खोलती है, आज ऐसी शिक्षा की आवश्यकता है जो ज्ञान से ओत-प्रोत हो। हम ज्ञान को जितना आत्मसात करेंगे, आत्मबल उतनी तेजी से बढ़ेगा। यह बातें यूपी बोर्ड के सचिव दिव्य कान्त शुक्ल ने यूपी बोर्ड मुख्यालय में मंगला प्रसाद इण्टर कालेज बामपुर प्रयागराज में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को सम्मानित करने के उपरांत कही। रविवार को यूपी बोर्ड मुख्यालय में मंगला प्रसाद इण्टर कालेज बामपुर में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को स्व. डॉ. त्रियुगी नारायण द्विवेदी एवं स्व. श्रीमती सूर्या द्विवेदी का स्मृति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। जिसमें विशाल कुमार मिश्र पुत्र विनोद कुमार मिश्र तथा आशीष कुमार पुत्र लाल चन्द्र ने इण्टरमीडिएट की परीक्षा में बराबर 407/500 अंक प्राप्त किया। जिसके लिए उन्हें स्व. डॉ. त्रियुगी नारायण द्विवेदी एवं स्व श्रीमती सूर्या द्विवेदी की स्मृति पुरस्कार के अंतर्गत क्रमशः 10,500 की धनराशि प्रदान की गई। इसी प्रकार आकृता गौतम पुत्री राजेश कुमार को हाईस्कूल परीक्षा में 522/600 अंक प्राप्त करने पर स्व.सूर्या देवी स्मृति पुरस्कार से सम्मानित किया, जिसके तहत उसे 21 हजार की धनराशि प्रदान की गई। माध्यमिक शिक्षा परिषद्, क्षेत्रीय कार्यालय प्रयागराज के अपर सचिव शिव प्रकाश द्विवेदी ने कहा कि अपने माता-पिता के नाम पर कई वर्षों से मेधावी बच्चों को प्रोत्साहित करने के लिये पुरस्कार प्रदान करते हैं। उन्होंने बताया कि इसी के अंतर्गत प्रत्येक वर्षों की तरह उक्त धनराशि बच्चों के उज्ज्वल भविष्य एवं उनका मनोबल बढ़ाने के लिए दिया जाता है। जिससे बच्चों का मनोबल और आगे बढ़े और उनमें कुछ करने की इच्छा जागृत हो। कार्यक्रम का संचालन जीआईसी के वरिष्ठ शिक्षक प्रभाकर त्रिपाठी ने किया। इस अवसर पर जिला विद्यालय निरीक्षक आर.एन विश्वकर्मा, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी संजय कुशवाहा, राजीव मिश्रा निदेशक मानव शोध संस्थान प्रयागराज सहित कई लोग उपस्थित रहे। हिन्दुस्थान समाचार/विद्या कान्त/संजय-hindusthansamachar.in