जोन में अब खुले नहीं घूम पाएंगे अपराधी : एडीजी

 जोन में अब खुले नहीं घूम पाएंगे अपराधी : एडीजी
जोन में अब खुले नहीं घूम पाएंगे अपराधी : एडीजी

- टाॅप-10 बदमाशों की सूची बना कर उनकी धरपकड़ के लिए चलाया जा रहा है अभियान - अपर पुलिस महानिदेशक ने माना, लाॅकडाउन के बाद आपराधिक घटनाओं में हुई है वृद्धि हापुड़, 25 जुलाई (हि.स.)। अपर पुलिस महानिदेशक ने कहा कि पूरे जोन में टाॅप-10 बदमाशों की धरपकड़ के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। बदमाश अब समाज में खुले नहीं घूम पाएंगे। अब उनके रहने की जगह जेल होगी। उन्होंने नागरिेकों को आश्वस्त किया कि पुलिस उनकी हर प्रकार से मदद करेगी। अपर पुलिस महानिदेशक राजीव सभरवाल शनिवार को पुलिस लाइन के सभागार में पत्रकारों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अपराधियों के विरुद्ध की धरपकड़ के लिए उनकी सूची बना कर सघन अभियान चलाया जा रहा है। वह अपने जोन के प्रत्येक जनपद में जाकर इस अभियान की समीक्षा कर रहे हैं और पुलिस अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दे रहे हैं। उन्होंने इस अभियान के दौरान हापुड़ पुलिस के कार्यों की सराहना भी की। उन्होंने माना कि लाॅक डाउन के बाद क्षेत्र में अपराध बढ़ा है। पुलिस इस समस्या से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। इस समस्या का एक कारण यह भी है कि अपराध जगत में कुछ नए लड़के आने लगे हैं। उनका पुराना आपराधिक इतिहास पुलिस के पास नहीं होने के कारण उन्हें दबोचने में पुलिस को थोड़ी परेशानी का सामना करना पड़ता है। उन्होंने सभी पुलिस अधीक्षकों को आदेश दिया है कि आपराधिक घटनाओं की विवेचना करने में शीघ्रता की जाए और अपराधियों पर शिकंजा और कसा जाए। अपर पुलिस महानिदेशक ने साइबर अपराध के सम्बन्ध में बताया कि यह नए प्रकार का अपराध है। अधिकतर पुलिसकर्मियोें को इस अपराध के किए जाने की प्रक्रिया और उससे निपटने के तरीकों की जानकारी नहीं है। इस समस्या से निपटने के लिए पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षित कराया जा रहा है। शीघ्र ही प्रशिक्षित पुलिसकर्मी साइबर अपराध को अधिक मजबूती से रोक पाने में सक्षम होंगे। जनपद के एक व्यापारी द्वारा उसके साथ हुई लूट की घटना की बदमाशों के भय के कारण रिपोर्ट दर्ज नहीं कराने के प्रश्न पर उन्होंने कहा कि वह इस मामले की अपने स्तर पर जांच कराएंगे। यदि लोगों में पुलिस पर विश्वास में किसी प्रकार की कमी है तो इस समस्या को दूर करने के प्रयास किए जाएंगे। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने बताया कि मेरठ जोन से स्थानांतरित होने वाले अधिकतर अधिकारियों और पुलिसकर्मियों को रिलीव कर दिया गया है। एकदम सभी कर्मचारियों और अधिकारियों को एक साथ रिलीव नहीं किया जा सकता। जैसे-जैसे दूसरे जोन से अधिकारी और कर्मचारी आते जाएंगे वैसे-वैसे इस जोन से स्थानांतरित अधिकारियों और कर्मचारियों को रिलीव किया जाता रहेगा। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक संजीव सुमन और अपर पुलिस अधीक्षक सर्वेश मिश्रा भी मौजूद थे। हिन्दुस्थान समाचारध्विनम्र व्रत त्यागी-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.