जिंदा को मृत दिखा वरासत कराने वालों पर मुकदमा दर्ज कराने का निर्देश
जिंदा को मृत दिखा वरासत कराने वालों पर मुकदमा दर्ज कराने का निर्देश
उत्तर-प्रदेश

जिंदा को मृत दिखा वरासत कराने वालों पर मुकदमा दर्ज कराने का निर्देश

news

राजस्व निरीक्षक व लेखपाल पर लटक रही कार्यवाई की तलवार मीरजापुर, 15 सितम्बर (हि.स.)। उपजिलाधिकारी मड़िहान शिव प्रसाद की अध्यक्षता में मड़िहान तहसील में मंगलवार को सम्पूर्ण समाधान दिवस का आयोजन हुआ। राहकला गांव निवासिनी सरजू देवी पत्नी बोड़ई ने फर्जी वरासत की शिकायत की। मामले को गंभीरता से लेते हुए एसडीएम ने राजस्व निरीक्षक व हल्का लेखपाल को तलब किया और फर्जी वरासत कराने वालों पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराने का आदेश दिया। बताया गया कि सरजू देवी पत्नी बोड़ई नाम की दो महिला गांव में रहती थी। एक आदिवासी महिला की मौत के बाद राजस्वकर्मियों की मिलीभगत से मृतक महिला के परिजनों को लाभ दे दिया गया। जबकि पट्टा पत्रावली तहसील की रिकॉर्ड से गायब है। इसी जमीन को अपना पट्टा बताकर दूसरी महिला ने तहसील दिवस पर शिकायत करते हुए कहा कि हम जिंदा हैं, इसके बावजूद लेखपाल ने वरासत कर दिया। अमोई गांव के ग्रामीणों ने एक दबंग पर आरोप लगाते हुए शिकायत किया कि लालगंज कलवारी मार्ग स्थित दस बीघा सरकारी जमीन पर उसने अनाधिकार कब्जा किया है। विनोद कुमार, नन्हे, मुनीब, रामपति, रामलाल, अनिता, मोना, मुन्नी, ऊदल आदि ने मांग किया कि उक्त भूमि को गांवसभा में निहित कर आवासीय पट्टा दिया जाय। बताया कि दबंगो द्वारा गरीबों का उत्पीड़न किया जा रहा है और उनका आशियाना भी उजाड़ा जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/गिरजा शंकर/विद्या कान्त-hindusthansamachar.in