जहां जहां श्रीराम के चरण पड़े वहां की मिट्टी से तैयार हुई भगवान राम की भव्य मूर्ति
जहां जहां श्रीराम के चरण पड़े वहां की मिट्टी से तैयार हुई भगवान राम की भव्य मूर्ति
उत्तर-प्रदेश

जहां जहां श्रीराम के चरण पड़े वहां की मिट्टी से तैयार हुई भगवान राम की भव्य मूर्ति

news

-अयोध्या की रामलीला में होंगे मर्यादा पुरुषोत्तम की मोहक मूर्ति के दर्शन -रामलीला का सेट तैयार करने अयोध्या पहुंचा मुंबई के कलाकारों का दल लखनऊ, 14 अक्टूबर (हि.स.)। अयोध्या की राम लीला में मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की अनूठी मूर्ति के दर्शन भी होंगे। भगवान राम की यह मूर्ति उनकी चरण रज से तैयार की गई है। दुनिया में जहां-जहां भगवान राम के चरण पड़े वहां वहां से रामलीला कमेटी ने मूर्ति के लिए मिट्टी इकट्ठा की है। रामलीला कमेटी के मुख्य संरक्षक सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने बुधवार को यहां बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संरक्षण में यूपी सरकार के विशेष सहयोग से हो रही अयोध्या की राम लीला अभूतपूर्व और ऐतिहासिक होगी। दुनिया भर से इकट्ठा कर लाई गई भगवान राम की चरण रज से मूर्तिकार नरेश कुमावत ने भव्य मूर्ति को आकार दिया है। मूर्ति को रंगो से सजाया जा रहा है। राम लीला के दौरान पूरे आठ दिन भगवान की इस दिव्य मूर्ति के दर्शन भी होंगे। रामलीला के समापन के दिन मूर्ति को सरयू नदी में विसर्जित किया जाएगा। रामलीला कमेटी के अध्यक्ष सुभाष मलिक ने बताया कि मुंबई से रामलीला का सेट लगाने के लिए हरी भाई की अगुवाई में कलाकारों का दल अयोध्या पहुंच चुका है। राम लीला के मंच को इस तरह का आकार दिया जा रहा है कि अयोध्या के राजमहल से लेकर सरयू, चित्रकूट और श्रृगवेरपुर धाम समेत राम कथा से जुड़े तमाम पवित्र स्थलों के दर्शन हो सकेंगे। देश और दुनिया भर में अयोध्या के सांस्कृतिक गौरव की झलक पेश करने के लिए योगी सरकार के निर्देश पर अयोध्या की रामलीला को 14 भाषाओं में प्रस्तुत किया जाएगा। इंटरनेट, यू ट्यूब , सोशल मीडिया के माध्यम से प्रसारित की जाने वाली राम लीला को हर भाषा, धर्म,देश और समाज के लोग देख और समझ सकेंगे। शारदीय नवरात्रि के साथ ही 17 अक्टूबर से अयोध्या में रामलीला का मंचन शुरू हो जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/पीएन द्विवेदी/दीपक-hindusthansamachar.in