छठ पूजा को सुरक्षित और सफल बनाने में एनडीआरएफ ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका
छठ पूजा को सुरक्षित और सफल बनाने में एनडीआरएफ ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका
उत्तर-प्रदेश

छठ पूजा को सुरक्षित और सफल बनाने में एनडीआरएफ ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका

news

वाराणसी, 21 जनवरी (हि.स.)। चार दिवसीय लोक आस्था का महापर्व डाला छठ शनिवार को सकुशल संपन्न हो गया। पिछले चार दिनों से लाखों व्रती महिलाओं और उनकी परिजनों की सुरक्षा में जुटे प्रशासनिक अफसरों और पुलिस के जवानों के साथ एनडीआरएफ ने भी सुकुन की सांस ली। छठ पूजा को सकुशल और सुरक्षित बनाने में 11 एनडीआरएफ के जवानों ने भी महत्वपूर्ण योगदान दिया। पिछले तीन दिनों से गंगा तट और वरूणा नदी के शास्त्रीघाट पर व्रती महिलाओं और उनके परिजनों की सुरक्षा और किसी भी तरह की अप्रिय घटना को रोकने के लिए जवान सजग रहे। एनडीआरएफ के कमांडेट कौशलेश राय ने बताया कि बल के जवान वाराणसी के साथ साथ उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश में विभिन्न प्रकार की आपदाओं, धार्मिक स्नानों और मेलों में लोगों की सुरक्षा के लिए तैनात रहते है। डाला छठ पर्व पर वाराणसी में सभी मुख्य घाटों पर एनडीआरएफ की 06 टीम लगातार गंगा में गश्त करती रही। दशाश्वमेध घाट, राजघाट, खिड़कियाघाट, विश्व सुन्दरीघाट, केदार घाट, कचहरी शास्त्री घाट, सामने घाट, राजेंद्र प्रसाद घाट, अस्सी घाट पर 24 नावों में सवार जवान वाटर एम्बुलेंस और 100 से अधिक बचावकर्मियों के साथ गश्त पर रहे। टीम के साथ गोताखोर की टीम, पैरामेडिक्स, डीप डाइविंग सेट, लाइफ जैकेट, लाइफ बॉय व अन्य बचाव उपकरण भी रही। उन्होंने बताया कि छठ पूजा के दौरान श्रद्धालुओं की भीड़ जहां भी रही एनडीआरएफ अधिक गहरे पानी वाली जगहों को चयनित कर श्रद्धालुओं को वहां ना जाने की हिदायत देती रही। एनडीआरएफ के बचाव कर्मी घाटों पर मोटर बोट व प्रशिक्षित गोताखोरों की सहायता से नदी से भीड़ पर अपनी पैनी नज़र जमाये रहे। उधर, उदीयमान सूर्य को अध्र्य देने के बाद कचहरी स्थित शास्त्री घाट पर श्रद्धालुओं के जाने के बाद एनडीआरएफ के जवानों को पूजा समितियों ने सम्मानित भी किया। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/दीपक-hindusthansamachar.in