खुशहाल परिवार दिवस: दंपत्तियों को बताएं परिवार नियोजन के फायदें
खुशहाल परिवार दिवस: दंपत्तियों को बताएं परिवार नियोजन के फायदें
उत्तर-प्रदेश

खुशहाल परिवार दिवस: दंपत्तियों को बताएं परिवार नियोजन के फायदें

news

गाजियाबाद, 21 दिसम्बर (हि.स.)। जनपद में सोमवार को खुशहाल परिवार दिवस का आयोजन किया गया। इस दौरान नव दंपत्तियों को परिवार नियोजन के फायदे बताए गए। अनेक महिला और पुरुषों ने परिवार नियोजन के साधन अपनाए। जिला महिला अस्पताल, शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, डासना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, मुरादनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और भोजपुर में कैंप लगाकर परिवार नियोजन के साधनों की जानकारी दी गई। दंपत्तियों को परिवार नियोजन के फायदे बताए गए। डासना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर कैंप का उद्घाटन परिवार नियोजन कार्यक्रम के नोडल अधिकारी एसीएमओ डाॅ. संजय अग्रवाल ने किया। डाॅ. संजय अग्रवाल ने बताया कि दो बच्चों के बीच तीन साल का सुरक्षित अंतर मां और बच्चे, दोनों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। इससे जहां बच्चे को पूरे दो साल तक मां का दूध मिल जाता है। वहीं प्रसव से मां के शरीर में होने वाली खून की कमी भी पूरी हो जाती है। मां के शरीर से बच्चा जो कैल्शियम लेता है, उसकी भी भरपाई हो जाती है। किसी भी महिला का शरीर प्रसव के तीन साल बाद ही फिर से मां बनने के लिए तैयार हो पाता है। इसलिए दो बच्चों के बीच यह अंतर रखना जरूरी होता है। एसीएमओ ने बताया कि सुरक्षित अंतर के लिए परिवार नियोजन के अस्थाई साधनों, जैसे पीपीआईयूसीडी (कॉपर टी), गर्भ निरोधक इंजेक्शन अंतरा, गर्भ निरोधक गोली छाया और कंडोम का इस्तेमाल करें और परिवार पूरा हो जाने पर परिवार नियोजन के स्थाई साधन (नसबंदी) अपनाएं। एसीएमओ डा. संजय अग्रवाल ने बताया कि खुशहाल परिवार दिवस के मौके पर जनपद में छह महिलाओं ने नसबंदी कराकर परिवार नियोजन का स्थायी साधन अपनाया। इसके अलावा 39 महिलाओं ने पीपीआईयूसी लगवाई और कुल 52 महिलाओं ने गर्भ निरोधक इंजेक्शन अंतरा पर भरोसा जताया। इसके अलावा 88 महिलाओं ने छाया गर्भ निरोधक गोलियां शुरू कीं और सभी केंद्रों पर 2040 कंडोम वितरित किए गए। एसीएमओ ने बताया कि 21 नवंबर को पहले खुशहाल परिवार दिवस का आयोजन किया गया था। अब हर माह की 21 तारीख को परिवार नियोजन कार्यक्रम की स्वीकार्यता बढ़ाने के उद्देश्य से यह विशेष आयोजन किया जाता है। हिन्दुस्थान समाचार/फरमान अली-hindusthansamachar.in