खाद की किल्लत से परेशान बुंदेलखंड के किसान आंदोलित हुए
खाद की किल्लत से परेशान बुंदेलखंड के किसान आंदोलित हुए
उत्तर-प्रदेश

खाद की किल्लत से परेशान बुंदेलखंड के किसान आंदोलित हुए

news

बांदा, 11 सितम्बर (हि.स.)। बुंदेलखंड के लगभग सभी जनपदों में किसानों को खाद न मिलने से किसान परेशान होकर कहीं धरना प्रदर्शन कर रहे हैं तो कहीं सड़क जाम कर विरोध प्रकट कर रहे हैं।वही खाद की खुलेआम कालाबाजारी की जा रही है और प्रशासन मौन साधु है। खाद की समस्या को लेकर ही बांदा में भी धरना प्रदर्शन हो रहे हैं। किसानों का कहना है कि इस समय खाद नहीं मिल रही है खाद के लिए किसान इधर उधर भटक रहा है।इस बारे में अधिकारी कुछ सुनने को तैयार नहीं है।जहां केंद्र में खाद नहीं मिल रही है वही कालाबाजारी में आसानी से मिल रही है।किसानों का यह भी कहना है कि इस समय अन्ना प्रथा भी किसानों के लिए जी का जंजाल बनी हुई है,गांवों मे आश्रय केंद्र बने होने के बावजूद अन्ना गाय खुलेआम घूम रही है और फसलों को नुकसान पहुंचा रही है जिससे किसान परेशान है।इन्हीं समस्याओं को लेकर किसानों ने बांदा शहर के अशोक लाट के नीचे धरना प्रदर्शन शुरू किया है। बुन्देलखंड किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल शर्मा के द्वारा बताया गया कि इन दिनों खाद की कालाबाजारी चरम सीमा पर है जिला प्रशासन के द्वारा ढुलमुल रवैया इख्तियार किया जा रहा है। जिसके कारण किसान खाद को ले कर परेशान व बेहाल नजर आ रहे हैं। संबंधित समस्या पर शासन प्रशासन को कई बार किसानों के द्वारा अवगत कराया गया लेकिन समाधान न होने के कारण आज हमारे संगठन को किसान हित को लेकर प्रदर्शन करना पड़ रहा है। उधर अतर्रा में यूरिया खाद की बढ़ती किल्लत को देख सपा नेताओं के नेतृत्व में किसानों ने तहसील परिसर पहुंच धरना प्रदर्शन किया।क्रय-विक्रय सहकारी समिति में यूरिया खाद लेने पहुंचे किसानों को केंद्र प्रभारी द्वारा समाप्त होने की बात कही।जिस पर किसान आक्रोशित होकर हंगामा करने लगे।थोड़ी देर में ही सपा के प्रदेश सचिव नीरज द्विवेदी भी मौके पर पहुंच किसानों की समस्या सुन उनका नेतृत्व करते हुए पैदल ही तहसील परिसर की ओर थाली बजाते हुए चल दिये।तहसील परिसर पहुंच किसानों ने धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया।धरना प्रदर्शन के दौरान सपा के पूर्व जिला सचिव विवेकबिन्दु ने यूरिया खाद की किल्लत के लिए शासन प्रशासन को जिम्मेदार बताते हुए शीघ्र किसानों की समस्या निस्तारण की मांग किया।एक घण्टे चले धरना प्रदर्शन के उपरांत मौके पर पहुंचे तहसीलदार अतर्रा विजय प्रताप सिंह को ज्ञापन सौंपते हुए कहा कि यदि शीघ्र किसानों को यूरिया खाद न मिलने पर आमरण अनशन करने को विवश होंगे। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल/मोहित-hindusthansamachar.in