क्या जनसंघ काल से पार्टी की सेवा कर रहे प्रभुनाथ चौहान को राज्यसभा भेजेगी भाजपा!
क्या जनसंघ काल से पार्टी की सेवा कर रहे प्रभुनाथ चौहान को राज्यसभा भेजेगी भाजपा!
उत्तर-प्रदेश

क्या जनसंघ काल से पार्टी की सेवा कर रहे प्रभुनाथ चौहान को राज्यसभा भेजेगी भाजपा!

news

उप्र से 10 राज्यसभा सीटों के चुनाव का ऐलान होने के बाद अटकलों का बाजार तेज गाजीपुर, 14 अक्टूबर (हि.स.)। चुनाव आयोग द्वारा उत्तर प्रदेश से राज्यसभा की खाली हुई 10 सीटों सहित 11 सीटों पर चुनाव का बिगुल बजने के बाद जनपद सहित पूर्वांचल में अटकलों का बाजार गर्म हो गया है कि क्या पार्टी के समर्पित सिपाही प्रभुनाथ चौहान को भाजपा राज्यसभा भेजेगी। खास बात यह कि 2017 विधानसभा चुनाव में श्री चौहान का गाजीपुर जनपद के जहुराबाद विधानसभा से चुनाव लड़ना लगभग तय था, लेकिन ऐन मौके पर गठबंधन के तहत उक्त सीट सुभासपा के खाते में चले जाने से प्रभुनाथ चौहान चुनाव लड़ने से वंचित रह गए थे। ऐसे में अब मजबूती के साथ यह कयास लगाया जा रहा है कि पार्टी के कद्दावर और पिछड़ा वर्ग के मजबूत जनाधार वाले नेता भाजपा राज्यसभा के लिए भेज सकती है। गौरतलब हो कि 1976 में बाल स्वयंसेवक से अपने सामाजिक जीवन की शुरुआत करने वाले प्रभुनाथ चौहान जनसंघ काल से पार्टी कार्यकर्ता के रूप में कार्य करते रहे। 1980 में भारतीय जनता पार्टी स्थापना काल से सदस्य के रूप में कार्य कर रहे प्रभुनाथ चौहान सामान्य बूथ कार्यकर्ता से लेकर मंडल अध्यक्ष, जिला मंत्री, जिला महामंत्री, जिला अध्यक्ष पिछड़ा प्रकोष्ठ प्रदेश संयोजक, पिछड़ा प्रकोष्ठ प्रदेश महामंत्री, भाजपा प्रदेश मंत्री के साथ ही निरंतर पार्टी के संगठनों में कार्य करते हुए कर्तव्यनिष्ठ सिपाही की तरह कार्यकर्ता धर्म का पालन करते रहे, जिन्हें पार्टी ने वर्ष 2009 में गाजीपुर लोकसभा सीट से चुनाव भी लड़ाया था। वर्ष 2012 में भाजपा प्रदेश मंत्री के रूप में रहते हुए विधानसभा चुनाव में कौशांबी के प्रभारी के रूप में काम किए। जहां से सिराथू विधानसभा क्षेत्र से वर्तमान उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद को सदन में भेजने का काम किया। पार्टी के आदेशों का अक्षरस: पालन करते रहे प्रभुनाथ जनपद के युवा तुर्क नेता व जिला पंचायत सदस्य अनिल कुमार पांडेय ने बताया कि अपने प्रारंभ काल से अब तक बूथ स्तर से लेकर केंद्रीय स्तर तक काम करने वाले प्रभुनाथ चौहान सदैव से पार्टी के आदेशों का पालन करने वाले नेता रहे हैं। संगठन में जिस भी पद पर काम दिया गया जिम्मेदारी पूर्वक निर्वहन किया गया। वर्ष 2009 में पार्टी के आदेश पर प्रभुनाथ चौहान लोकसभा चुनाव लड़े, इसके साथ ही वर्ष 2017 विधानसभा चुनाव में पार्टी के आदेश पर जहुराबाद से चुनाव लड़ने की तैयारी पूर्ण कर लेने के बाद अंतिम समय में उन्हें वहां से हटने को कहा गया। जिस पर तत्काल प्रभुनाथ चौहान अमल करते हुए पार्टी के प्रचार कार्य में लग गए जिनकी पहचान एक समर्पित कार्यकर्ता के रूप में है। वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय परिषद सदस्य के रूप में संगठन की सेवा कर रहे प्रभुनाथ चौहान उत्तर प्रदेश पिछड़ा आयोग सदस्य भी हैं। जनपद के जखनिया विधानसभा क्षेत्र जलालाबाद गांव निवासी प्रभुनाथ चौहान खाटी गवई किसान छवि में भाजपा संगठन के मध्य बूथ स्तर से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक अपनी कर्तव्य परायणता के दम पर पहचान स्थापित किया। भाजपा के टर्निंग प्वाइंट कर जाने वाले लोकसभा चुनाव वर्ष 2014 में जहां वर्तमान गृह मंत्री अमित शाह उत्तर प्रदेश के प्रभारी रहे वहीं प्रभुनाथ चौहान पिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक के रूप में काम किए। इसके साथ ही तमाम चुनाव में संयोजक व प्रभारी के रूप में कार्य करते हुए पार्टी नेताओं को अपने कुशल रणनीति व कौशल का साक्षात्कार कराया। श्री चौहान फिलहाल में केंद्रीय रेलवे बोर्ड द्वारा गठित महत्वपूर्ण कमेटी यात्री सुविधा समिति वरिष्ठ सदस्य रह चुके हैं। इसके साथ ही वर्तमान में उत्तर प्रदेश पिछड़ा आयोग सदस्य व भाजपा के राष्ट्रीय परिषद् सदस्य हैं। पार्टी में इनके पूर्व के योगदान व गतिविधियों को देखते हुए जनपद सहित पूर्वांचल में कयास लगने शुरू हो गया है कि आजीवन भाजपा संगठन का कार्य करने वाले प्रभुनाथ चौहान को पार्टी राज्यसभा में भेज सकती है। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीराम/दीपक-hindusthansamachar.in