कोविड में मानसिक तनाव से बचने के लिए बच्चे ले सकते है टोल फ्री नंबर से मदद
कोविड में मानसिक तनाव से बचने के लिए बच्चे ले सकते है टोल फ्री नंबर से मदद
उत्तर-प्रदेश

कोविड में मानसिक तनाव से बचने के लिए बच्चे ले सकते है टोल फ्री नंबर से मदद

news

बच्चों की मदद के लिए जारी हुआ टोल फ्री नंबर 1800-121-2830 झांसी, 08 अक्टूबर(हि.स.)। कोविड का समय हर किसी के ऊपर अलग अलग प्रकार से असर डाल रहा है, किस व्यक्ति पर इसका क्या प्रभाव हो रहा है इसका अनुमान लगाया जाना मुश्किल है। जिस तरह सभी की व्यतिगत और सार्वजनिक जीवनशैली में बदलाव आया है, ऐसे में बच्चे भी है जिन पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ा। इस मुश्किल दौर में बच्चों का साथ देने के लिए भारत सरकार के द्वारा संवेदना प्रोग्राम के अंतर्गत एक टोल फ्री नंबर 1800-121-2830 जारी किया गया है। यह जानकारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. जीके निगम ने दी। उन्होंने बताया कि भारत सरकार की तरफ से पत्र के माध्यम से सूचित किया गया है कि नेशनल कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट और इंडिया को-विन नेटवर्क ने साथ में मिलकर कुछ अच्छे काउन्सलर और मनोचिकित्सकों का एक नेटवर्क बनाया है। इसमें नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हैल्थ एंड न्यूरो साइन्स के द्वारा तकनीकी मदद ली जा रही है। इस नेटवर्क से ऐसे बच्चे मदद ले सकते है, जिन पर मानसिक या शारीरिक तौर पर कोविड का प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। इनमें वह बच्चे आ सकते है जो या तो खुद या उनके परिवार का सदस्य कोविड से संक्रमित रहा हो। इस दौरान बच्चों के अंदर जो डर की भावना जागृत हुई है उसी की काउंसिलिंग के लिए यह नंबर जारी किया गया है। स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी डा. विजयश्री शुक्ला ने बताया कि बच्चों के अंदर भावनाएं अधिक तीव्र होती है और जिज्ञाषा भी बहुत सारी होती है। कोविड-19 में जब बड़े लोग अपना मानसिक संतुलन सही नहीं रखा पा रहे है, तो बच्चों पर और ज्यादा असर पढ़ रहा है, बच्चे अपने आप को अलग थलग सा महसूस करते है। और जो बच्चे उपचाराधीन है उन्हें मानसिक स्तर पर एक भावनात्मक सहारे की जरूरत होती है, इसके लिए सरकार की तरफ से यह प्रयास किया गया है। टोल फ्री नंबर पर सुबह 10 बजे से 1 बजे तक व दोपहर 3 बजे से रात 8 बजे तक टेली काउंसिलिंग ली जा सकती है। हिन्दुस्थान समाचार/महेश/उपेन्द्र-hindusthansamachar.in