कोरोना संक्रमण बढ़ने पर डीएम ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की लगाई 'क्लास'
कोरोना संक्रमण बढ़ने पर डीएम ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की लगाई 'क्लास'
उत्तर-प्रदेश

कोरोना संक्रमण बढ़ने पर डीएम ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की लगाई 'क्लास'

news

मेरठ, 22 सितम्बर (हि. स.)। मेरठ में कोरोना का संक्रमण बढ़ने से प्रशासनिक और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है। मंगलवार की सुबह डीएम के बालाजी मेडिकल पहुंचे। जहां उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की 'क्लास' लगाते हुए व्यवस्थाओं में सुधार के निर्देश दिए। बताते चलें कि सोमवार को जहां कोरोना के 368 नए पेशेंट के मिले थे। वहीं पांच मरीजों की मौत हो गई थी। शुरुआत से लेकर अब तक पहली बार जिले में 24 घंटों में कोरोना के नए मरीजों का आंकड़ा चार सौ के नजदीक पहुंचने के बाद अधिकारियों में हड़कंप मच गया। मंगलवार को जिलाधिकारी के बालाजी ने सीएमओ डॉक्टर राजकुमार को मेडिकल में तलब करते हुए मेडिकल के प्राचार्य डॉक्टर ज्ञानेंद्र सहित कोविड वार्ड में तैनात अन्य अधिकारियों को भी सख्त लहजे में कोरोना पेशेंट्स का बेहतर इलाज किए जाने के निर्देश दिए। इस दौरान जहां डीएम के बालाजी ने व्यवस्थाओं में जल्द से जल्द सुधार का दावा किया। वहीं, उन्होंने बढ़ती हुई मृत्यु दर के लिए मेडिकल में गंभीर मरीजों को देरी से रेफर करने वाले प्राइवेट हॉस्पिटल्स की भी जांच की बात कही। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. ज्ञानेंद्र कुमार ने बताया कि शासन द्वारा कोविड वार्ड में 250 बेड का टारगेट दिया गया है जिसे जल्द पूरा कर लिया जाएगा। इस महीने के अंत तक आईसीयू में भी बेड की संख्या बढ़ाकर लगभग सौ कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि मेडिकल कॉलेज में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन सिलेंडर और दवाइयां उपलब्ध हैं। मगर, मरीज इस मामले में लापरवाही ना बरतें। जरा भी लक्षण मिलने पर तत्काल कोरोना की जांच कराएं। उन्होंने जल्द ही व्यवस्थाओं में सुधार का दावा किया। हिन्दुस्थान समाचार/कुलदीप/दीपक-hindusthansamachar.in