कोरोना मरीजों की इलाज में लापरवाही और मनमानी के ​खिलाफ कांग्रेस मुखर
कोरोना मरीजों की इलाज में लापरवाही और मनमानी के ​खिलाफ कांग्रेस मुखर
उत्तर-प्रदेश

कोरोना मरीजों की इलाज में लापरवाही और मनमानी के ​खिलाफ कांग्रेस मुखर

news

कार्यकर्ता कमिश्नर से मिले, कड़ी कार्यवाही की मांग, सौंपा ज्ञापन वाराणसी,15 सितम्बर (हि.स.)। कोरोना संकट काल में संक्रमित मरीजों के इलाज के नाम पर निजी अस्पतालों की मनमानी, धन उगाही और भर्ती मरीजों की समुचित इलाज न होने की बढ़ती शिकायत को लेकर कांग्रेस मुखर है। मंगलवार को पंडित कमलापति त्रिपाठी फाउंडेशन के बैनर तले कांग्रेस कार्यकर्ताओं का एक प्रतिनिधिमंडल मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल से उनके कार्यालय में जाकर मिला। इस दौरान पार्टी के वरिष्ठ नेता विजय शंकर पांडेय और पूर्व जिलाध्यक्ष प्रजानाथ शर्मा ने कमिश्नर के समक्ष मैदागिन स्थित मेडविन अस्पताल के मनमानी का मामला उठाया। दोनों नेताओं ने कहा कि जिला प्रशासन ने इस अस्पताल को कोरोना लेवल-2 और कोरोना लेवल-3 उपचार के लिए आरक्षित किया है। ये अस्पताल कोरोना मरीजों से कम से कम दो लाख रूपया अग्रिम जमा कराने के बाद ही इलाज शुरू करता है। रूपया जमा कराने के बाद भी इलाज ढंग से नहीं किया जाता। कांग्रेस नेताओं ने नदेसर के फर्नीचर व्यापारी आनन्द मिश्र का उदाहरण दिया और कोरोना से स्वस्थ हुए व्यापारी का आरोप और इलाज में कोताही को बताया। नेताओं ने बताया कि अस्पताल भर्ती मरीजों का इलाज शुरू करने के बाद इलाज शुरू कर इसका वीडियो बनाते है। वीडियो बनाने के बाद आक्सीजन मास्क हटा देते हैं। नेताओं ने अस्पताल में इलाज में लापरवाही के चलते पत्रकार राकेश कुमार के मौत का मामला भी कमिश्नर को बताया। नेताओं ने अस्पताल की जांच और प्रबंधन के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग कर इसका ज्ञापन भी कमिश्नर को सौंपा। कमिश्नर ने उनकी बात को सुन उचित कार्यवाही का भरोसा दिया। प्रतिनिधि मंडल में शैलेन्द्र सिंह,आनंद मिश्र,अशोक पांडेय आदि शामिल रहे। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/दीपक-hindusthansamachar.in