कोरोना की जांच करने गांव में पहुंची स्वास्थ्य टीम पर ग्रामीणों का हमला
कोरोना की जांच करने गांव में पहुंची स्वास्थ्य टीम पर ग्रामीणों का हमला
उत्तर-प्रदेश

कोरोना की जांच करने गांव में पहुंची स्वास्थ्य टीम पर ग्रामीणों का हमला

news

स्वास्थ्य चिकित्सक की कार को पंचर कर निकाला पहिया, बाइक की पंचर कासगंज 10 सितंबर (हि.स.)। कोविड-19 की जांच करने गांव में पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम पर ग्रामीणों ने हमला बोल दिया। जिस वाहन से टीम गांव में पहुंची, उस कार की हवा निकाल दी, पहिए खोल लिए। स्वास्थ्य कर्मी की बाइक की भी हवा निकाल दी। घटना की जानकारी उच्चाधिकारियों को दे दी गई है। ग्रामीणों के विरुद्ध अभियोग पंजीकृत कराए जाने की कार्रवाई प्रारंभ हो गई है। गुरुवार को सहावर स्वास्थ्य केंद्र से गांव नगला हंसी में विभाग की टीम डॉ. शिशिर प्रताप सिंह के नेतृत्व में यहां पहुंची। सरकारी स्कूल में स्वास्थ्य कर्मियों ने अपना कैंप लगाना प्रारंभ कर दिया। मौके पर मौजूद स्वास्थ्य कर्मी वीरेंद्र सिंह, हरेंद्र कुमार, अनीस खान, विनय कुमार भी मौजूद थे। जैसे ही ग्रामीणों को ज्ञात हुआ कि कोरोनावायरस के परीक्षण के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में आई है। तभी गांव के असामाजिक तत्वों ने एकत्रित होकर चिकित्सक की कार की हवा निकाल दी, एक पहिया खोल लिया। साथ ही स्वास्थ्य कर्मी की बाइक पंचर कर उसका प्लग निकाल ले गए। जब स्वास्थ्य कर्मियों ने ग्रामीणों से इस बात को कहा तब ग्रामीण लड़ने को आमादा हो गए। गाली गलौज की एवं जान से मारने की धमकी दी। चिकित्सा अधिकारी डॉ शिशिर प्रताप ने एसडीएम सहावर अशोक कुमार सिंह को फोन पर घटनाक्रम की जानकारी दी। मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल पहुंचा। स्वास्थ्य कर्मियों को पुलिस सुरक्षा में स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। इस मामले को लेकर एसडीएम अशोक कुमार सिंह ने बताया कि क्योंकि इस गांव का थाना कोतवाली सोरों है। इसलिए चिकित्सक एवं स्वास्थ्य टीम द्वारा सोरों कोतवाली में तहरीर दे दी गई है। आरोपियों पर कार्रवाई की जा रही। हिन्दुस्थान समाचार/ पुष्पेंद्र/मोहित-hindusthansamachar.in