कोई भी टॉप टेन अपराधी जेल से बाहर न रहने पाए - डीआईजी
कोई भी टॉप टेन अपराधी जेल से बाहर न रहने पाए - डीआईजी
उत्तर-प्रदेश

कोई भी टॉप टेन अपराधी जेल से बाहर न रहने पाए - डीआईजी

news

बांदा, 27 जुलाई (हि.स.)। चित्रकूट धाम मंडल परीक्षेत्र के नए डीआईजी के सत्यनारायण ने सोमवार को कार्यभार ग्रहण करते ही सख्त तेवर दिखाते हुए पुलिस को निर्देश दिए है कि थाना स्तर पर टॉप 10 अपराधियों की सूची बनाकर उन्हें तत्काल जेल भेजा जाए। कार्यभार ग्रहण करने के बाद पुलिस लाइन सभागार में संबंधित पुलिस अधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश के योगी आदित्यनाथ की मंशा के अनुरूप अब कोई भी टॉप टेन अपराधी धरातल पर दिखाई नहीं देना चाहिए। उनकी जगह सिर्फ जेल है।इसलिए ऐसे टॉप टेन अपराधियों की सूची थाना स्तर पर तैयार की जाए और एक एक करके उन्हें जेल भेजा जाए। डीआईजी ने यह भी कहा कि अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई के दौरान इस बात का भी विशेष ध्यान रखें कि कोई भी फरियादी थाने से वापस न जाने पाए, हमें जब तक काम करना है जब तक थाने में आए फरियादी को न्याय न मिल जाए। उन्होंने यह भी कहा कि गंभीर अपराधों में लिप्त अपराधियों की निगरानी रखने के लिए उनकी जमानत की कार्रवाई के साथ ही उनके लाइसेंस निरस्त कराए जाने की कार्रवाई भी की जानी चाहिए। बैठक के दौरान पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ शंकर मीरा व अन्य अधिकारी मौजूद रहे। चौकी व कोतवाली का किया निरीक्षण नवागंतुक पुलिस महानिरीक्षक चित्रकूट धाम परिक्षेत्र बांदा के. सत्यनारायण ने कार्यभार संभालने के बाद शहर का भ्रमण किया और इस दौरान पुलिस चैकी बलखंडी नाका तथा सदर कोतवाली का निरीक्षण किया। उन्होंने बलखंडी नाका पुलिस चैकी पहुंचकर चौकी के बैरक, बाथरूम आदि को चेक किया एवं चैकी प्रभारी को साफ सफाई पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। इसके बाद उन्होंने पैदल गस्त कर लोगों से वार्ता की एवं कोरोना संक्रमण से बचाव के संबंध में उन्हें जानकारी दी गई तथा सभी से मास्क का उपयोग करने व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने का सुझाव दिया गया उन्होंने बाद में सदर कोतवाली पहुंचकर कोतवाली के बैरक, भोजनालय आदि की साफ-सफाई को चेक किया एवं सभी जगह पर निरंतर साफ-सफाई बनाए रखने के निर्देश दिए गए। उन्होंने कोतवाली के भोजनालय में बन रहे भोजन की गुणवत्ता को स्वयं चेक किया व निरंतर पौष्टिक, स्वछता पूर्वक बनाए जाने के निर्देश दिए गए। पुलिस महानिरीक्षक ने कोतवाली में कार्यरत पुलिस बल से उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी की गई।आगंतुक रजिस्टर को चेक किया गया तथा कोतवाली में आने वाले फरियादियों की समस्याओं को सुनकर उन पर तत्काल आवश्यक कार्यवाही कर रजिस्टर में नोट करने के लिए निर्देशित किया गया। साथ ही कोतवाली नगर से काज लिस्ट के बारे में पूछा गया एवं हेड कांस्टेबल से फर्द की जानकारी पूछी गई ना बताने पर पुलिस महानिरीक्षक ने उसे स्वयं जानकारी दी और इस बारे में पूर्ण जानकारी के रखने लिए कहा गया। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल-hindusthansamachar.in