कृषि विज्ञान केंद्र पर पोषण अभियान कार्यक्रम मनाया गया
कृषि विज्ञान केंद्र पर पोषण अभियान कार्यक्रम मनाया गया
उत्तर-प्रदेश

कृषि विज्ञान केंद्र पर पोषण अभियान कार्यक्रम मनाया गया

news

-जिला की आंगनवाड़ी कार्यकत्री व कृषक महिलाओं ने की भागीदारी। औरैया, 17 सितंबर (हि. स.)। जनपद के कृषी विज्ञान केंद्र परवाहा में केंद्र एवं इफ्को औरैया के संयुक्त तत्वाधान पोषण माह के अंतर्गत पोषण अभियान गुरुवार को मनाया गया। जिसमें आंगनवाड़ी कार्यकत्री तथा कृषक महिलाओं ने भागीदारी की। गुरुवार को कृषी विज्ञान केंद्र परवाहा में पोषण माह के अंतर्गत मनाया गया। पोषण अभियान 2020 जनपद के सरपंच समाज कृषि विज्ञान केंद्र परवाहा औरैया एवं इसको औरैया के संयुक्त तत्वाधान में केंद्र सरकार के निर्देशानुसार मनाया गया। आंगनवाड़ी कार्यकत्री एवं कृषक महिलाओं ने कार्यक्रम में भागीदारी की। समस्त प्रतिभागियों को पोषण किट सब्जियों के बीज का वितरण किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत में केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं हेड डॉ अनंत कुमार द्वारा मानव पोषण पर चर्चा करते हुए सभी महिलाओं से केंद्र से जुड़े रहने एवं पोषण वाटिका लगाकर घर से जैविक सब्जी उत्पादन का प्रयोग करने पर बल दिया। इफ्को के जिला प्रबंधक प्रेम राज शर्मा ने पोषण अभियान के तहत आंगनवाड़ी कार्यकत्री का सहयोग की अपील के साथ कोविड-19 बचाव हेतु काढ़ा बनाने एवं सामाजिक दूरी पर प्रकाश डाला केंद्र की ग्रह वैज्ञानिक डॉ रश्मि यादव ने समस्त महिलाओं को बताया कि एक स्वस्थ बच्चा स्वस्थ समाज की आधारशिला होता है। इस आधारशिला को मजबूत बनाने के लिए समुदाय स्तर पर सभी की सहभागिता और जन-जागरूकता बहुत जरूरी है। एक स्वस्थ जीवन के लिए तैयारी गर्भावस्था के दौरान ही शुरू कर देनी चाहिए। स्वस्थ बच्चे के लिए मां का भी स्वस्थ होना उतना ही जरूरी है। इसमें पोषण के पांच सूत्र- पहले सुनहरे 1000 दिन, पौष्टिक आहार, एनीमिया की रोकथाम, डायरिया का प्रबंधन, स्वच्छता और साफ-सफाई स्वस्थ नए जीवन के लिए महामंत्र साबित हो सकते हैं। केंद्र से वितरित की गई पोषण किट द्वारा हर-घर पोषण वाटिका लगाने पर विशेष जोर दिया। केंद्र के पशुपालन विशेषज्ञ ब्रिज विकास सिंह ने पशु पोषण पर प्रकाश डाला एवं सांय कॉल में हल्दी दूध ग्रहण करने का आह्वान किया। कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए केंद्र के फसल उत्पादन विशेषज्ञ डॉ एसके सिंह ने विभिन्न फसलों जैसे अधिक पोषक तत्व वाली प्रजातियों बौने पर बल दिया। केंद्र के पौध संरक्षण विशेषज्ञ अंकुर झा ने समस्त पौधों एवं पोषण वाटिका में कीट नियंत्रण हेतु जैविक विधि पर बल दिया। केंद्र के प्रबंधक के के सिंह ने भगवान विश्वकर्मा पूजा पर प्रकाश डालने के साथ-साथ मानव को संतुलित करने का आवाहन किया । कार्यक्रम को जनपद के सहार विकासखंड के गेहूं, चना पूर्व की आईआईटी खड़कपुर की पीएचडी की छात्रा ने प्रतिभाग लिया एवं मृदा पोषण संरक्षण पर विचार व्यक्त किए कार्यक्रम का संचालन सरपंच समाज कृषि विज्ञान केंद्र औरैया के पशुपालन वैज्ञानिक विकास सिंह ने किया। हिन्दुस्थान समाचार/सुनील/मोहित-hindusthansamachar.in