कृषि तकनीक पखवाड़ा में किसान जानेंगें आय दोगुनी करने की तकनीक
कृषि तकनीक पखवाड़ा में किसान जानेंगें आय दोगुनी करने की तकनीक
उत्तर-प्रदेश

कृषि तकनीक पखवाड़ा में किसान जानेंगें आय दोगुनी करने की तकनीक

news

- पखवाड़े को सफल बनाने के लिए सीएसए में हुई बैठक, दी गयी जिम्मेदारियां कानपुर, 28 सितम्बर (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के प्रमुख कृषि विश्वविद्यालयों में से एक चन्द्रेशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (सीएसए) हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी कृषि तकनीक प्रसार पखवाड़े का आयोजन तीन अक्टूबर से करने जा रहा है। इस पखवाड़े में हर कृषि विज्ञान केन्द्र से 30 से 35 किसानों को लाया जाएगा। इसके साथ ही उन्हे आय दोगुनी करने से संबंधित तकनीकी जानकारियां दी जाएंगी, जिससे वह सफल किसान बनकर अन्य किसानों को भी आगे बढ़ाने में मदद कर सकें। चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर डी.आर.सिंह की अध्यक्षता में सोमवार को अधिकारियों के साथ एक बैठक हुई। कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय हर वर्ष की भांति तीन अक्टूबर से 17 अक्टूबर तक कृषि तकनीक पखवाड़े का आयोजन करने जा रहा है। ऐसे में सभी जिम्मेदार अधिकारी पखवाड़े को सफल बनाने के लिए अपने-अपने सुझाव दें। कुलपति ने कहा कि कोविड-19 के दृष्टिगत प्रत्येक कृषि विज्ञान केंद्र 30 से 35 किसानों को ही कृषि तकनीकी पखवाड़ा में लाएं तथा एक दिन में एक ही कृषि विज्ञान केंद्र अपने जनपद के किसानों को लाएंगे। कुलपति ने निर्देशित किया है कि कृषि विज्ञान केंद्र सुनिश्चित करें कि बस में किसानों को बैठाने से पूर्व उनकी थर्मल स्क्रीनिंग, हाथों को सैनिटाइज तथा मास्क देकर बस के अंदर कोविड-19 के दृष्टिगत उचित दूरी पर बैठाए। उन्होंने कहा कि कृषि तकनीकी प्रसार पखवाड़ा के दौरान कृषकों के लिए बीजों की उचित व्यवस्था एवं उन्हें कृषि तकनीकों से दक्ष करने के उद्देश्य से कृषि तकनीकी सत्र जिसमें कृषक वैज्ञानिकों की परिचर्चा, उद्यमिता हेतु प्रशिक्षण, कृषकों की आय को दोगुना करने के लिए एकीकृत फसल प्रणाली, मशरूम की खेती, बकरी पालन,दुग्ध उत्पादन, मधुमक्खी पालन एवं मछली पालन जैसे व्यवसाय के लिए उन्हें तकनीकी जानकारी दी जाए। इसके साथ ही पर्यावरण संरक्षण में जागरूक करने के लिए विशेष व्याख्यान प्रतिदिन प्रत्येक जनपद के कृषकों को दिए जाएं। बैठक में उपस्थित सभी अधिकारियों ने कृषि तकनीकी प्रसार पखवाड़े को सुचारू रूप से चलाने के लिए अपने-अपने सुझाव दिए। इस दौरान डा. धूम सिंह, डा. धर्मराज सिंह, मीडिया प्रभारी डा. खलील खान, कुलसचिव डा. एच पी सिंह, डा. पीके राठी, डा. सुभाष चंद्रा, डा. एन लारी, डा. रामाशीष यादव, डा. जितेंद्र सिंह सहित सभी विभागाध्यक्ष एवं अन्य अधिकारी उपस्थित रहें। हिन्दुस्थान समाचार/अजय/मोहित-hindusthansamachar.in