किसानों की समस्याएं शीघ्र हल करने की मांग किसान मोर्चा ने उठाई
किसानों की समस्याएं शीघ्र हल करने की मांग किसान मोर्चा ने उठाई
उत्तर-प्रदेश

किसानों की समस्याएं शीघ्र हल करने की मांग किसान मोर्चा ने उठाई

news

- किसानों की समस्याओं को लेकर जमकर गरजे किसान - महामहिम राष्ट्रपति तथा पीएम को संबोधित सौंपा ज्ञापन फतेहपुर,05 नवम्बर (हि.स.)। किसानों की समस्याएं शासन-प्रशासन हल करने का काम नहीं कर रहा है यदि यही हाल रहा तो निश्चित रूप से किसान मोर्चा सड़कों पर उतर कर ईट से ईट बजाने का काम करेगा। यह बातें किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमर सिंह पटेल ने गुरुवार को जिले की बिन्दकी तहसील परिसर में किसानों की समस्याओं को लेकर आयोजित धरना प्रदर्शन को संबोधित करते हुए कही। किसानों की तमाम समस्याओं को लेकर बिन्दकी तहसील में धरना-प्रदर्शन में राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री पटेल ने कहा कि सत्ता में आने के पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किसानों से तमाम वादे किए थे लेकिन अभी तक वह पूरे नहीं किए गए जिसको लेकर किसानों में गहरी नाराजगी का माहौल है। उन्होंने मांग किया कि किसान मजदूर आयोग का गठन हो, किसान की उपज का मूल्य निर्धारण सरकार तथा किसान के बीच वार्ता द्वारा तय किया जाए। इतना ही नहीं प्रत्येक किसान मजदूर का दस लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा सरकार द्वारा किया जाए। प्रत्येक किसान मजदूर को 60 वर्ष की उम्र होने पर पांच हजार रुपये मासिक पेंशन भी दी जाए। देश के सभी कॉलेजों में कृषि शिक्षा को अनिवार्य विषय के रूप में पढ़ाया जाए। जिससे अमेरिका, चीन, ब्राजील सहित कई देशों की तरह यहां भी पैदावार में इजाफा हो सके। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि उनकी सरकार जब सत्ता में आएगी तो किसानों की आय को दोगुना किया जाएगा। लेकिन अभी तक यह वादा पूरा नहीं किया गया है और यह वादा तभी पूरा किया जा सकता है जब किसानों को उर्वरक, कीटनाशक दवाएं तथा बीज इत्यादि सभी आधे दरों पर उपलब्ध कराई जाए। धरने को संबोधित करते हुए किसान मोर्चा के प्रदेश सचिव जंग बहादुर सिंह कुशवाहा ने कहा कि सरकार प्रत्येक किसान को आठ लाख रुपये का फसल बीमा मुफ्त कराने का काम करें तथा सरकार किसान मजदूरों को कम से कम बीस लाख रुपए बैंक ऋण उपलब्ध कराये। इस मौके पर मंडल सचिव रामबरन गौतम ने कहा कि सरकार किसान मजदूरों की बेटी की शादी के लिए कम से कम एक लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करें। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जो धान खरीद हो रही है केवल व्यापारियों तथा बिचौलियों की हो रही है जबकि किसान का धान नहीं खरीदा जा रहा है इससे ज्यादा भ्रष्टाचार क्या हो सकता है यह सब किसान बर्दाश्त करने वाला नहीं है। किसान मोर्चा के तहसील महासचिव सिद्ध गोपाल ने कहा कि जहां जहां पर सरकारी जमीनों पर अवैध कब्जा है उन कब्जों का हटाने का काम करें और ऐसी जमीनों को गरीबों मजदूरों को पट्टा की जाए। उन्होंने आरोप लगाया कि अधिकांश थानों में भ्रष्टाचार होता है गरीबों की सुनी नहीं जाती ऐसी स्थिति में यह सब बंद होना चाहिए। इस मौके पर किसान मोर्चा की जिला सचिव रेखा देवी ने कहा कि बिंदकी बाईपास करीब 9 वर्ष से अधूरा पड़ा है जिसके चलते नगर के अंदर जाम लगता है आए दिन दुर्घटनाएं होती हैं लेकिन उत्तर प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी की सरकार और जिला प्रशासन पूरी तरह से इसमें ढिलाई कर रहा है और निश्चित रूप से इस मामले को लेकर सरकार फेल नजर आती है। वही तहसील अध्यक्ष ममता देवी ने मांग करते हुए कहा कि नगर का बस स्टॉप का सुंदरीकरण कराया जाए उपडिपो बनाया जाए तथा नगर के सभी सौरव चौराहे में सुलभ शौचालय की व्यवस्था की जाए। इस मौके पर वीरेंद्र कुमार वर्मा, नंदलाल साहू, तेजपाल, ननकी देवी, गजराज, दीपू शुक्ला, विमलेश कुमार, शहीद अहमद, निर्मला देवी, ललन सिंह, महावीर, सरजू प्रसाद, संतोष कुमार सहित तमाम लोग मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/देवेन्द्र-hindusthansamachar.in