कागजी कार्रवाई के कारण किसी मरीज को उपचार मिलने में विलंब न हो : मंत्री सुरेश खन्ना
कागजी कार्रवाई के कारण किसी मरीज को उपचार मिलने में विलंब न हो : मंत्री सुरेश खन्ना
उत्तर-प्रदेश

कागजी कार्रवाई के कारण किसी मरीज को उपचार मिलने में विलंब न हो : मंत्री सुरेश खन्ना

news

- मंत्री सुरेश खन्ना ने किया विवेकानंद अस्पताल का निरीक्षण - चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने कोविड बेड्स की संख्या बढ़ाने के दिये निर्देश - कोविड मरीजों को नियत समय पर दिए जाएं गुणवत्तापूर्ण आहार लखनऊ, 07 सितम्बर (हि.स.)। प्रदेश के वित्त, संसदीय कार्य, चिकित्सा शिक्षा मंत्री एवं जनपद लखनऊ के प्रभारी मंत्री सुरेश खन्ना ने सोमवार को विवेकानंद अस्पताल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के उपरांत उन्होंने अस्पताल प्रशासन के साथ हॉस्पिटल की व्यवस्थाओं के बारे में समीक्षा भी की। चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने हॉस्पिटल प्रशासन को निर्देश दिए कि कोई भी मरीज अगर आपात स्थिति में अस्पताल आता है तो उसे प्राथमिकता के साथ भर्ती करके तत्काल उपचार शुरू किया जाए। चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने कहा कि कागजी कार्रवाई के कारण किसी मरीज को उपचार मिलने में विलंब नहीं होना चाहिए। साथ ही चिकित्सकों एवं हॉस्पिटल प्रशासन को निर्देश दिया कि मरीजों को बेहतर चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने कहा कि मरीजों को दी जाने वाली चिकित्सीय तथा अन्य सुविधाओं में किसी प्रकार की लापरवाही सामने आने पर संबंधित का उत्तरदायित्व निर्धारित किया जाएगा। चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने हॉस्पिटल प्रशासन के साथ कोविड-19 बेड्स की संख्या बढ़ाने पर मंथन करते हुए अस्पताल प्रशासन से कोविड बेड की संख्या बढ़ाने को कहा। उन्होंने विशेषकर एल-2 व एल-3 और एचडीयू, आईसीयू के बेड बढ़ाने के निर्देश दिए। उन्होंने डॉक्टरों एवं हॉस्पिटल प्रशासन को साफ सफाई पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। उन्होंने मरीजों को दिए जाने वाले भोजन की गुणवत्ता को बेहतर बनाए रखने के भी निर्देश दिए। उन्होंने अस्पताल प्रशासन को निर्देशित किया कि कोविड मरीजों को सुबह का नाश्ता, दोपहर का भोजन, शाम का नाश्ता एवं रात का भोजन गुणवत्तापूर्ण होना चाहिए। साथ ही साथ ये आहार मरीजों को समय पर उपलब्ध कराया जाए। खन्ना ने निर्देश दिए कि कोविड-19 की जांच रिपोर्ट में किसी प्रकार का विलम्ब न करते हुए यथाशीघ्र दी जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि चिकित्सालय में एक ऐसे सेल की स्थापना की जाए जो कोविड-19 के मरीजों को उनके परिजनों से समय-समय पर टेलिफोनिक वार्ता करवाएं, जिससे मरीज के परिजन, मरीज की स्थिति से अद्यतन रहें। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी लखनऊ अभिषेक प्रकाश भी मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश/रामानुज-hindusthansamachar.in