कांग्रेस लाशों पर करती है राजनीति, राजस्थान जैसी घटना दूसरे जगह होने पर गले लगाते राहुल : श्रीकांत शर्मा
कांग्रेस लाशों पर करती है राजनीति, राजस्थान जैसी घटना दूसरे जगह होने पर गले लगाते राहुल : श्रीकांत शर्मा
उत्तर-प्रदेश

कांग्रेस लाशों पर करती है राजनीति, राजस्थान जैसी घटना दूसरे जगह होने पर गले लगाते राहुल : श्रीकांत शर्मा

news

मथुरा : ऊर्जामंत्री वृंदावन की परिक्रमा के साथ-साथ किया यमुना शुद्धिकरण के प्रयासों का निरीक्षण नालों की टैपिंग होने के बाद रिवर फ्रंट की राह होगी आसान : पं. श्रीकान्त शर्मा पूरा हो रहा है धरोहरों के संरक्षण के साथ आधुनिक विकास का संकल्प मथुरा, 11 अक्टूबर(हि.स.)। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा द्वारा रविवार को अधिक मास में श्रीधाम वृंदावन की परिक्रमा करके पुण्य कमाया। इस दौरान उन्होंने परिक्रमा के साथ-साथ विकास कार्यें का निरीक्षण करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नदियों की निर्मलता के संकल्प की दिशा में मथुरा-वृन्दावन आगे बढ़ रहा है। वर्ष 2021 के मध्य तक नालों की टैपिंग का कार्य पूरा हो जाएगा। इसके बाद मथुरा से वृन्दावन तक रिवर फ्रंट की महत्वाकांक्षी परियोजना पर कार्य शुरू होने की राह आसान हो जाएगी। इस दौरान राजस्थान में पुजारी की हत्या के प्रश्न पर ऊर्जा मंत्री ने कहा कि कांग्रेस लोगों की लाशों पर राजनीति करती है। किसी और राज्य में ऐसी घटना होने पर प्रियंका और राहुल गांधी पहुंच जाते लोगों को गले लगाते, लेकिन वहां कोई नहीं पहुंचा। रविवार को वृंदावन में निरीक्षण के लिए आए ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने सर्वप्रथम रमणरेती पुलिस चौकी से पंचकोसीय परिक्रमा शुरू की। उन्होंने ई-रिक्शा में बैठकर परिक्रमा के साथ ही निरीक्षण भी किया। इस दौरान उन्होंने जुगलघाट स्थित नवनिर्मित शौचालय का निरीक्षण किया और सम्बंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। इसके बाद नाव में बैठकर यमुना में गिरने वाले नालों का जायजा लिया और नाले टेप मिलने पर संतोष जताया। वहीं बंशीवट स्थित श्मशान घाट के निर्माण कार्य का जायजा लिया और अधिकारियों को कार्य जल्द से जल्द पूर्ण कराने के निर्देश दिए। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने बताया कि सरकार की प्राथमिकता है कि वृंदावन, मथुरा एवं गोवर्धन सहित संपूर्ण ब्रज चौरासी कोस परिक्रमा का चहुंमुखी विकास हो, जिससे कि परिक्रमार्थियों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े। साथ ही उन्होंने कहा कि केशीघाट के समीप यमुना रिवर फ्रंट का कार्य रुक जाने से परिक्रमार्थियों एवं भक्तों को दिक्कत हो रही है। यमुना के गिरने वाले गंदे नाले अगले साल तक हो जाएंगे बंद ऊर्जा मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नदियों की निर्मलता के संकल्प की दिशा में यमुना में गिरने वाले 35 गंदे नालों को बंद किया जा रहा है। इसमें 20 नाले बंद किये जा चुके हैं। बाकी कार्य वर्ष 2021 के मध्य तक पूरा हो जाएगा। मसानी एसटीपी व ट्रांस यमुना टीटीआरओ प्लांट की 480 करोड़ की लागत से 50 एमएलडी क्षमता बढ़ाई जा रही है। यमुना में गिरने वाले गंदे नालों को बंद करने के बाद पर्यावरण अनुकूलता को आधार बनाकर ग्रीन कवर बढ़ाया जाएगा और मनोरम रिवर फ्रंट तैयार होगा। हिन्दुस्थान समाचार/महेश /उपेन्द्र/मोहित-hindusthansamachar.in