कटरा बाजार के विधायक बावन सिंह का दावा, 2022 में फिर लहराएंगे भाजपा का परचम
कटरा बाजार के विधायक बावन सिंह का दावा, 2022 में फिर लहराएंगे भाजपा का परचम
उत्तर-प्रदेश

कटरा बाजार के विधायक बावन सिंह का दावा, 2022 में फिर लहराएंगे भाजपा का परचम

news

-योगी सरकार के साढ़े तीन साल पर विधायक से सवाल जवाब गोंडा, 10 सितम्बर (हि.स.)। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अपने कार्यकाल के साढ़े तीन साल पूरा करने जा रही है। अब से ठीक 18 महीने बाद प्रदेश के सभी माननीय विधायक एक बार फिर जनता के दरबार में होंगे। इस दौरान वह अपने जनप्रतिनिधियों का लेखा जोखा तलब करेगी। इससे पहले हिन्दुस्थान समाचार न्यूज एजेंसी ने विधायकों के बहीखाता की पड़ताल शुरु की है। गोंडा जनपद में न्यूज एजेंसी के जिला संवाददाता महेंद्र ने वहां के कटरा बाजार विधानसभा क्षेत्र के विधायक बावन सिंह से साढ़े तीन साल में क्षेत्र के विकास के लिये उनके द्वारा किये गये कार्यों और विभिन्न योजनाओं के संबंध में विस्तृत वार्ता की। बावन सिंह वर्ष 2017 में कटरा बाजार विधानसभा क्षेत्र से चैथी बार भाजपा के विधायक चुने गये। डॉक्टरी की पढ़ाई छोड़ पिता की राजनीतिक विरासत संभालने वाले बावन सिंह की गिनती पढ़े लिखे जमीनी नेताओं में होती है। क्षेत्र की जनता से किये गये वायदे, अपने द्वारा कराये गये विकास कार्यों और अन्य मुद्दों पर उन्होंने बड़ी बेबाकी से अपनी बात रखी है। प्रस्तुत है बातचीत के प्रमुख अंश... सवाल- साढ़े तीन साल में आपने क्षेत्र में क्या विकास कार्य किये हैं, कुछ बड़ी परियोजनाओं के नाम भी बतायें जो जमीन पर हों। जवाब - क्षेत्र के विकास के लिए लोक निर्माण विभाग से 130 किलोमीटर से अधिक सड़कें हमें मिली हैं। कई सड़कें छह से सात किलोमीटर तक लंबी हैं। इनमें तिलका से लेकर जगतापुर, जमथरा, दुबहा बाजार, बौनापुर, में सड़कों के निर्माण का कार्य पूरा हो चुका है। भूलभुलिया गांव के पास नौ करोड़ रुपये की लागत से टेढ़ी नदी पर पुल का निर्माण कराया जा रहा है। इसके बनने से गांव के लोगों को 20 किलोमीटर लंबी दूरी तय करके बालपुर होकर गोंडा नहीं जाना पड़ेगा। पुल का निर्माण हो जाने से वे सीधे गोंडा पहुंच सकेंगे। 70 से 80 किलोमीटर लंबाई की सड़कें रुपईडीह विकासखंड के गांवों में बन रही हैं। ये गांव कटरा विधानसभा क्षेत्र में परिसीमन के बाद जुड़े हैं। आर्यनगर से गोकर्ण शिवाला होते हुए पृथ्वीनाथ मंदिर तक 57 करोड़ की लागत से करीब 18 किलोमीटर दो लेन सड़क का काम जल्द शुरू होने वाला है। शासन से पैसा अवमुक्त हो चुका है। इस सड़क की घोषणा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की थी। इसी तरह कुरासी से भोला जोत के बीच विसुही नदी पर पुल के निर्माण की स्वीकृति मिल चुकी है। सवाल - डेढ़ साल बाद चुनाव है, स्वयं की या सरकार की उपलब्धियों के साथ जनता के बीच जाना चाहेंगे ? जवाब - देखिये, केंद्र की सरकार ने देश में फैले कोरोना संकट के मद्देनजर गांव में गरीबों को निःशुल्क राशन उपलब्ध कराने का काम किया है। यह एक बड़ी उपलब्धि है। इसके माध्यम से सरकार ने जनता का दिल जीतने का काम किया है। उज्जवला योजना चलाकर गांव की गरीब महिलाओं को गैस कनेक्शन उपलब्ध कराया गया। प्रदेश सरकार द्वारा संकट की इस घड़ी में चाहे कोटा से छात्रों को लाने का काम हो या फिर गैर प्रांतों में पड़े प्रवासी श्रमिकों को लाकर उनके घर परिवार तक पहुंचाने का काम किया। श्रम विभाग के माध्यम से उनके खातों में एक हजार की धनराशि देकर उन्हें आर्थिक मदद दी गयी। हम खुद जनता के बीच में रहकर उनकी सेवा करते हैं। इसी सेवा भावना के बल पर वर्ष 2022 में हम पुनः भाजपा की सरकार बनाने में एक कड़ी का काम करेंगे। ऐसा हमें पूर्ण विश्वास है। सवाल-अयोध्या में श्रीराम मंदिर का निर्माण शुरू हो चुका है, विधानसभा चुनाव में यह कितना असर करेगा ? जवाब - अयोध्या में शुरू हुआ श्रीराम मंदिर का निर्माण सर्वोच्च न्यायालय का ऐतिहासिक फैसला है। शीर्ष अदालत ने साक्ष्यों के आधार पर फैसला दिया है। दुनिया जानती है कि अयोध्या राम की नगरी है। हम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं। लेकिन, राम मंदिर निर्माण में भाजपा, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है। देश की जनता सब कुछ जानती है कि इसके लिए किसने बलिदान दिया है। ऐसे में मंदिर निर्माण से चुनाव का प्रभावित होना स्वाभाविक है। निहत्थे कारसेवकों पर गोलियां बरसा कर तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने कलंक का टीका लिया था तथा हिंदू जन भावनाओं को आहत करने का काम किया था। करीब 500 वर्षों से हिंदू समाज के लोग अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण का सपना देख रहे थे, जो अब पूरा हो रहा है। दो वर्षों में मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा। यह निर्माण कार्य भले ही कोर्ट के आदेश से हो रहा है, लेकिन इसका सीधा फायदा भाजपा को अवश्य मिलेगा । सवाल- प्रदेश में भाजपा सरकार व अन्य दलों की सरकारों में क्या मूलभूत अंतर पाते हैं ? जवाब - देखिये, भाजपा एक अनुशासित पार्टी है। इसमें अनुशासन व कानून का राज चलता है। सपा की सरकार आने पर गुंडे माफियाओं का राज चलता है। उस सरकार में गुंडे माफियाओं के हौसले बुलंद होते हैं, अपराधों की बाढ़ आती है। अपहरण, लूट व बलात्कार जैसे उद्योग चलाए जाते हैं। सपा के मुखिया खुद हल्ला बोल आंदोलन चलाते हैं। दूसरी ओर जब बसपा की सरकार आती है तब मायावती खुद कहती हैं कि तिलक, तराजू और तलवार इनको मारो जूते चार। ऐसे में सिर्फ भाजपा ही एक ऐसी पार्टी है, जिसने ‘‘सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास’’ की नीति पर काम करती है और वर्तमान में कर भी रही है। सवाल- हाल की कई घटनाओं से क्या आपको लगता है कि सरकार में विधायकों की सुनवाई नहीं हो रही है ? जवाब - ऐसा बिल्कुल नहीं है। विधायकों की ही नहीं हर कार्यकर्ता की भी हर जगह सुनवाई हो रही है। सामान्य जनता भी अपनी समस्या लेकर जनप्रतिनिधि या अधिकारी के पास जाती है, तो उसका भी समुचित निराकरण होता है। जनसंघ से लेकर अब तक पार्टी और पार्टी की सरकार ने हमेशा मेरे परिवार पर भरोसा किया। मैं भाजपा का अनुशासित सिपाही हूं। गौरतलब है कि जिले में भाजपा की गढ़ मानी जाने वाली विधानसभा क्षेत्र कटरा बाजार सीट पर जनसंघ से लेकर भाजपा तक पार्टी ने बावन सिंह के परिवार पर 52 वर्षों से भरोसा जताया है। वर्ष 1969 में इस विधानसभा सीट से जनसंघ के टिकट पर उनके पिता श्रीराम सिंह विधायक बने। वर्ष 1993 के चुनाव में एक बार फिर उन्होंने यहां से भाजपा का परचम लहराया। मई 1995 में विधायक रहते हुए श्रीराम सिंह का निधन हो गया। इसके 1995 के उपचुनाव में बावन सिंह पहली बार यहां से भाजपा से विधायक चुने गये। वर्ष 1996 के सामान्य चुनाव में वह दोबारा विधायक बने। फिर 2012 के चुनाव में तीसरी बार तथा वर्ष 2017 में वह यहां से चैथी बार भाजपा के टिकट पर चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे। विधायक के कामकाज से संतुष्ट है जनता कटरा विधानसभा क्षेत्र की जनता अपने विधायक के कामकाज से काफी हद तक संतुष्ट दिखती है। वह जनता के लिए कितना समय देते हैं और उनके कार्यों में कितनी रूचि लेते हैं, इस सवाल के जवाब में क्षेत्र के शिक्षक स्वतंत्र मिश्र, किसान दिनेश मिश्रा और कृष्ण कुमार तिवारी समेत तमाम लोगों का कहना है कि विधायक बावन सिंह सरल स्वभाव और मृदुभाषी व्यक्तित्व के धनी हैं। वह जनता से परिवार की तरह मिलते हैं। शहरी कल्चर से दूर विधायक अपने गांव गद्दोपुर में भी सप्ताह में कम से कम तीन-चार दिन आसानी से लोगों के लिए उपलब्ध रहते हैं। प्रदेश की योगी सरकार के कामकाज को लेकर पूछे गये सवाल पर किसान अवध राम तिवारी कहते हैं कि राज्य सरकार ने प्रदेश में विकास के साथ साथ सुशासन व कानून का राज कायम किया है। किसानों का एक लाख तक का कर्ज माफ कर उन्हें राहत पहुंचाने का काम किया गया। केंद्र सरकार ने किसान सम्मान निधि योजना चलाकर कोरोना काल में किसानों को संजीवनी दी। हालांकि छुट्टा जानवरों को लेकर किसानों ने नाराजगी भी जतायी। कहा कि किसान सम्मान निधि से बनाई गई खेती की पूंजी छुट्टा जानवर चट कर रहे हैं। उनके लिए पुख्ता इंतजाम करने की सरकार से मांग भी की। हिन्दुस्थान समाचार/ महेन्द्र-hindusthansamachar.in