औरैया : धान और बाजरा की फसल को रोगों से बचाए किसान
औरैया : धान और बाजरा की फसल को रोगों से बचाए किसान
उत्तर-प्रदेश

औरैया : धान और बाजरा की फसल को रोगों से बचाए किसान

news

धान की फसल में सूट बोरर सुडी,पतंगा,गंधी बग तथा बाजरा की फसल में सुडी कीट का हो रहा हमला औरैया, 07 सितंबर (हि. स.)।इस समय क्षेत्र में धान और बाजरा की फसले तैयार हो रही है दोनों फसलो की बालियाँ कोत में है लगभग सप्ताह या दस दिन में धान और बाजरा की बालियाँ नजर आने लगेगी।यही समय फसलो पर कीटो का हमला अधिक होता है फसलो में रोग लग जाने पर किसानो पर आर्थिक बोझ तो पड़ता ही है लेकिन फसल की पैदावार भी प्रभावित हो जाती है फसल के बाजार भाव पर भी फर्क पड़ जाता है । धान और बाजरा की फसल में आने वाले प्रमुख कीटों की रोकथाम हेतु जनपद के परवाह स्थित सरपंच समाज कृषि विज्ञान केंद्र के पौध संरक्षण विशेषज्ञ डॉक्टर अंकुर झा व फसल उत्पादन विशेषग डॉक्टर एस के सिंह ने बताया कि किसान भाई अपनी धान की फसल में कीटों की रोक थाम हेतु निम्नलिखित उपाय करें जिससे धान की फसल की पैदावार अच्छी हो धान की फसल में शूट बोरर सूड़ी की रोकथाम हेतु निम्न कीटनाशकों का शायंकाल के समय खेतों का पानी निलाकर छिड़काव करें जिसमे कीटनाशक रॉकेट 2.500 मिली. + इम्मेक्टिन बेन्जोएट 100 ग्राम दवा को प्रति एकड़ की दर से छिड़काव करें फसल में पतंगा (पतलैया)/ गंधी बग (हरे रंग का उड़ने वाले कीट) की रोकथाम हेतु कीटनाशक रॉकेट 2.500 मिली. प्रति एकड़ के हिसाब से शायंकाल के समय खेतों का पानी निलाकर छिड़काव करे धान में भूरे फुदके से बचाव के लिए भी खेत में पानी निकाल दें। इम्डाक्लोरपिड 8 मिली. प्रति 15 ली. पानी में घोलकर सायंकाल के समय छिड़काव करे।बाजरा की फसल में सुडी कीट के नियंत्रण के लिए इम्मेक्टिं न बेन्जोइट 100 ग्राम दवा को प्रति एकड़ की दर से शांयकाल के समय छिड़काव करे। हिन्दुस्थान समाचार / सुनील/मोहित-hindusthansamachar.in