औरैया : तना गलन रोग की रोकथाम को खेतों में ना जमा होने दे पानी - डॉ अंकुर झा
औरैया : तना गलन रोग की रोकथाम को खेतों में ना जमा होने दे पानी - डॉ अंकुर झा
उत्तर-प्रदेश

औरैया : तना गलन रोग की रोकथाम को खेतों में ना जमा होने दे पानी - डॉ अंकुर झा

news

औरैया, 16 सितंबर (हि.स.)। धान की फसल में आने वाली प्रमुख बीमारियों की रोकथाम हेतु जनपद के परवाह गांव में स्थित सरपंच समाज कृषि विज्ञान केंद्र के पौध संरक्षण विशेषज्ञ डॉ अंकुर झा ने बुधवार को बताया कि किसान भाई अपनी धान की फसल में बीमारियों की रोक थाम हेतु कुछ उपाय करें जिससे धान की फसल में बीमारियों का प्रकोप न होने पाए। धान की फसल में तना गलन रोग की रोकथाम हेतु तत्काल खेतो का पानी निकाल दें और सांयकाल में टूबेकोनाजोल नामक दवा को 30 ग्राम को प्रति 15 लीटर पानी में घोल कर छिड़काव करें। धान की फसल में कंडुआ रोग की रोकथाम हेतु तत्काल खेतो का पानी निकाल दें और उर्वरकों का प्रयोग रोक दें। सायंकाल में कार्बेन्डाजिम प्लस मेंकोजेब नामक दवा को 30 ग्राम को प्रति 15 लीटर पानी में घोल कर छिड़काव फसल में दो बार करें। प्रथम छिड़काव धान की बाली निकलने की प्रारम्भिक अवस्था में और दूसरा छिड़काव पंद्रह से बीस दिन कि बाद करें। यदि फसल में रोग आ गया है तो कंडुआ बीमारी से ग्रसित पौधों को अतिशीघ्र खेत से निकालकर नष्ट कर दें। हिन्दुस्थान समाचार/सुनील/मोहित-hindusthansamachar.in